पृष्ठ:मानसरोवर भाग 3.djvu/३०४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


. भाड़े का टट्टू यशवत-यह तो न कहोगे कि मुझे इस मामले में कितने साहस से काम लेना पड़ा। रमेश-आपने साहस से काम नहीं लिया, स्वार्थ से काम लिण। आप अपने स्वार्थ के भक्त हैं। मैं तो आपको भाड़े का टटट समझता हूँ। मैंने अपने जीवन का "बहुत दुरुपयोग किया, लेकिन उसे आपके जोवन से बदलने को किसो दशा में भो तयार नहीं हूँ। आप मुमसे धन्यवाद को भाशा न रखें। ।