पृष्ठ:मानसरोवर भाग 5.djvu/१४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


निमन्त्रण पण्डित मोटेराम शास्त्री ने अन्दर जाकर अपने विशाल उदर पर हाथ फेरते हुए यह पद पञ्चम स्वर में गाया- अजगर करे न चाकरी, पंछी करे न काम, दास मलूका कह गये, सबके दाता राम ! सोना ने प्रफुल्लित होकर पूछा-कोई मीठी ताज़ी खबर है क्या ? शास्त्रीजी ने पैतरे बदलकर कहा-मार लिया आज। ऐसा ताककर मारा कि चारों खाने चित्त । सारे घर का नेवता ! सारे घर का ! वह बढ-बढ़कर हाथ मारूँगा कि देखनेवाले दग रह जायेंगे। उदर महाराज अभी से अधीर हो रहे हैं। सोना-कहीं पहले की भाँति अब की भी धोखा न हो। पक्का-पोढ़ा कर लिया है न मोटेराम ने मूंछ ऐंठते हुए कहा-ऐसा असगुन मुंह से न निकालो । बड़े जप- तप के बाद यह शुभ दिन आया है। जो तैयारियां करनी हों, कर लो। सोना-वह तो करूँगी ही। क्या इतना भी नहीं जानती ? जन्म-भर घास थोड़े ही खोदती रही हूँ ; मगर है घर-भर का न ? मोटेराम-अब और कैसे कहूँ ? पूरे घर-भर का है। इसका अर्थ समझ में न आया हो तो मुझसे पूछो । विद्वानों की बात समझना सवका काम नहीं। अगर उनकी बात सभी समझ लें, तो उनकी विद्वत्ता का महत्त्व ही क्या रहे। बताओ क्या समझी ? मैं इस समय बहुत ही सरल भाषा में बोल रहा हूँ; मगर तुम नहीं समझ सकों । बताओ, 'विद्वत्ता' किसे कहते हैं 2 'महत्त्व' ही का अर्थ बताओ। घर-भर का निमन्त्रण देना क्या दिल्लगी है ! हां, ऐसे अवसर पर विद्वान् लोग राजनीति से काम लेते हैं और उसका वही आशय निकालते हैं, जो अपने अनुकूल. हो । मुरादपुर की रानी सात ब्राह्मणों को इच्छापूर्ण भोजन कराना चाहती हैं। कौन-कौन महाशय मेरे साथ जायेंगे, यह निर्णय करना मेरा काम है। अलगू-