पृष्ठ:मानसरोवर भाग 5.djvu/३०१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


प्रायश्चित्त २९७ गये और आज दस साल से उनका पालन कर रहे हैं। दोनों बच्चे कालेज में पढ़ते हैं और कन्या का एक प्रतिष्ठित कुल में विवाह हो गया है। मदारीलाल और उनको स्रो तन-मन से रामेश्वरी की सेवा करते हैं और उसके इशारों पर चलते हैं। मदारी- लाल सेवा से अपने पाप का प्रायश्चित्त कर रहे हैं।