पृष्ठ:मानसरोवर भाग 5.djvu/४२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


३८ मानसरोवर हानि हुई, लेकिन मेरा अन्तःकरण उस समय विप्लवकारी विचारों से भरा हुआ था। मेरे पास दो आने पैसे पड़े हुए थे। मैंने पैसे उठा लिये, और जाकर शरमाते- शरमाते रामचन्द्र को दे दिये। उन पैसों को देखकर रामचन्द्र को जितना हर्ष हुआ, वह मेरे लिए आशातीत था। टूट पड़े, मानो प्यासे को पानी मिल गया । वही दो आने पैसे लेकर तीनों मूर्तियाँ विदा हुई। केवल मैं ही उनके साथ कस्बे के वाहर तक पहुँचाने आया । उन्हें बिदा करके लौटा, तो मेरी आँखें सजल थीं , पर हृदय आनन्द से उमड़ा हुआ था।