पृष्ठ:मानसरोवर भाग 5.djvu/५२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


४८ मानसरोवर निश्चय कर लिया था कि या तो इन लोगों को बचा ही लूंगा, या इन पर अपने को बलिदान ही कर दूंगा। जब तीन दिन सेंक-बाँध करने पर भी रोगियों की हालत न सॅभली, तो पण्डितजी को बढ़ी चिन्ता हुई । शहर वहीं से वीस मील पर था। रेल का कहीं पता नहीं, रास्ता बीहड और साथी कोई नहीं। इधर यह भय कि अकेले रोगियों की न-जाने क्या दशा हो । बेचारे बड़े सकट मे पड़े। अन्त को चौथे दिन, पहर रात रहे, वह अकेले ही शहर को चल दिये और दस बजते-बजते वहाँ जा पहुँचे । अस्पताल से दवा लेने में बड़ी कठिनाई का सामना करना पड़ा। गॅवारों से अस्पतालवाले दवाओं का मन- माना दाम वसूल किया करते थे। पण्डितजी को मुक्त क्यो देने लगे । डाक्टर के मुशी ने कहा-दवा तैयार नहीं है। पण्डितजी ने गिड़गिड़ाकर कहा- सरकार, बड़ी दूर से आया हूँ। कई आदमी बीमार पड़े हैं। दवा न मिलेगी, तो सब मर जायेंगे । मु शी ने बिगड़कर कहा - क्यो सिर खाये जाते हो ? कह तो दिया, दवा तैयार नहीं है, और न इतनी जल्द तैयार हो सकती है। पण्डितजी अत्यन्त दीनभाव से बोले- सरकार, ब्राह्मण हूँ, आपके बाल-बच्चों को भगवान् चिरञ्जीवी करें, दया कीजिए । आपका अकवाल चमकता रहे । रिश्वती कर्मचारियो में दया कहाँ ? वे तो रुपये के गुलाम हैं। ज्यों-ज्यों पण्डितजी उसकी खुशामद करते थे, वह और भी मल्लाता था। अपने जीवन में पण्डित- जी ने कभी इतनी दीनता न प्रकट की थी। उनके पास इस वक्त एक धेला भी न था अगर वह जानते कि दवा मिलने में इतनी दिक्कत होगी, तो गाँववालों से ही कुछ मांग-जाँचकर लाये होते। बेचारे हतबुद्धि-से खड़े सोच रहे थे कि अब क्या करना चाहिए ? सहसा डाक्टर साहब स्वय बँगले से निकल आये । पण्डितजी लपककर उनके पैरों पर गिर पड़े और करुण-स्वर मे वोले-दीनबधु, मेरे घर के तीन आदमी ताऊन मे पड़े हुए हैं । बड़ा गरीब हूँ सरकार, कोई दवा मिले । डाक्टर साहब के पास ऐसे गरीव लोग नित्य आया करते थे। उनके चरणों पर किसी का गिर पड़ना, उनके सामने पड़े हुए आर्तनाद करना, उनके लिए कुछ नई बातें न थीं; अगर इस तरह वह दया करने लगते तो दया ही भर को होते यह १