पृष्ठ:मानसरोवर भाग 6.djvu/१४७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१६० मानसरोवर द्वार पर किसी ने धीरे से कहा-जाती क्यों नहीं, जागते तो हैं ? किसी ने जवाब दिया-लाज श्राती है। सुरेश ने आवाज पहचानी। प्यासे को पानी मिल गया। एक क्षण में मगला उनके सम्मुख पाई और सिर झुकाकर खड़ी हो गयी । सुरेश को उसके मुख पर एक अनूठी छवि दिखाई दी, जैसे कोई रोगी स्वास्थ्य-लाभ कर चुका हो। रूप वही था, पर आँखें और थीं।