पृष्ठ:मानसरोवर भाग 6.djvu/१४६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


आभूपण १५३ रात को जब वह भोजन करके लेटे, ता छोटी सालो पाकर बैठ गयी और मुसकिराकर बोली-जीजाजी, कोई सुन्दरी अपने रूप-हीन पुरुप को छोड़ दे, उसका अपमान करे, तो श्रार उसे क्या कहेंगे ? सुरेश-(गंभीर स्वर से ) कुटिला ! साली -और ऐसे पुरुप को, जो अपनी रूप हीन सी को त्याग दे ? सुरेश - पशु! साली--और जो पुरुप विद्वान् हो ? सुरेश-पिशाच! साली--( हँसकर ) तो मैं भागती हूँ। मुझे अापसे डर लगता है। मुरेश-पिशाचों का प्रायश्चित्त भी स्वीकार हो जाता है! साली--शर्त यह है कि प्रायश्चित्त सच्चा हो सुरेश [--यह तो वह अन्तर्यामी ही जान सकते हैं। साली---राना होगा, तो उसका फल भी अवश्य मिलेगा। मगर दीदी को लेकर इधर ही से लौटिएगा। सुरेश की अाशा-नौका फिर डगमगाई । गिड़गिड़ाकर बोले-प्रभा, ईश्वर के लिए मुझपर दया करो। मैं बहुत दुःखी है। साल-भर से ऐसा कोई दिन नहीं गया कि मैं रोकर न सोया हूँ। प्रभा ने उठकर कहा-अपने किये का क्या इलाज ? जाती है, आराम कीजिए। एक क्षण में मगला की माता ग्राकर बैठ गयी और बोली-वेटा, तुमने तो बहुत पढ़ा-लिखा है, देस-विदेस घूम आने हो, सुन्दर बनने की कोई दवा कहीं नहीं देखी? तुरेश ने विनय पूर्वक कहा-माताजी, अब ईश्वर के लिए और लजित न कोलिए। माता-तुमने तो मेरी पारी बेटी के प्राण ले दिये ! मैं क्या तुम्हें लजित परने से भो गयो ? जी में तो था कि ऐना ऐसी सुनाऊँगी कि तुम भी याद करोगे ; पर मेरे मेहमान हो, क्या जलाऊँ ! आराम करो। नुरेश आया और भय की दशा में पड़े करवटें बदल रहे थे कि एकाएक