पृष्ठ:मानसरोवर भाग 6.djvu/२२१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२४६ मानसरोवर पहर रात गये तक रुपयों का नाम भी नहीं लिया। जब मैं घर में सोने गया, तो बीवी से कहा-इन्होंने तो रुपये नहीं दिये जी ! पत्नी ने व्यग्य से हँसकर कहा-तो क्या सचमुच तुम्हें श्राशा थी कि वह आते ही आते तुम्हारे हाथ में रुपये रख देंगे ? मैंने तो तुमसे पहले ही कह दिया था कि फिर पाने की आशा से रुपये मत दो , यही समझ लो कि किसी मित्र को, सहायतार्थ दे दिये । लेकिन तुम भी विचित्र आदमी हो । मैं लजित और चुप हो रहा । उमापतिजी दो दिन रहे। मेरी पत्नी उनका यथोचित आदर-सत्कार करती रहीं। लेकिन मुझे उतना सतोष न था। मैं , समझता था, इन्होंने मुझे धोखा दिया । तीसरे दिन प्रातःकाल वह चलने को तैयार हुए। मुझे अब भी आशा यी कि वह रुपये देकर जायेंगे । लेकिन जब उनकी नई रामकहानी सुनी, तो सन्नाटे में आ गया। वह अपना विस्तरा बाँधते हुए बोले-बड़ा ही खेद है कि मैं अबकी बार आपके रुपये न दे सका। बात यह है कि मकान पर पिताजी से भेंट ही नहीं हुई । वह तहसील-वसूल करने गाँव चले गये थे । और मुझे इतना अवकाश न था कि गाँव तक जाता । रेल का रास्ता नहीं है। बैल-गाड़ियों पर आना पड़ता है। इसलिए मैं एक दिन मकान पर रहकर ससुराल चला गया । वहाँ सब रुपये खर्च हो गये। विदाई के रुपये न मिल जाते, तो यहाँ तक आना कठिन था। अब मेरे पास रेल का किराया तक नहीं है । आप मुझे २५) और दे दें। मैं वहाँ जाते ही मेज दूंगा। मेरे पास इक्के तक का किराया 1 । नहीं है। जी में तो आया कि टका-सा जवाब दे दूं, पर इतनी अशिष्टता न हो सकी। फिर पत्नी के पास गया और रुपये माँगे । अब उन्होने बिना कुछ कहे-सुने रुपये निकालकर मेरे हवाले कर दिये । मैंने उदासीन भाव से रुपये उमापतिजी को दे दिये । जब उनकी पुत्री और अर्धागिनी जीने से उतर गई , तो उन्होंने बिस्तर उठाया और मुझे प्रणाम किया । मैने बैठे-बैठे सिर हिलाकर जवाब दिया। उन्हें सड़क तक पहुँचाने भी न गया । एक सप्ताह के बाद उमापतिजी ने लिखा-मैं कार्यवश बराबर जा रहा हूँ । लौटकर रुपये मेजूंगा।