पृष्ठ:मानसरोवर भाग 6.djvu/२६५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२८६ मानसरोवर आ०- आ०- वस्तुएँ क्या हुई जिनका आपने वादा किया था और जिनका स्मरण में प्रेमा- नुरक्त भाव से कर रहा हूँ? द०-ज्योतिस्वरूप कहाँ गये ? श्रा०-ऊर्ध्व ससार में भ्रमण कर रहे हैं। बड़ा ही अद्भुत उदासीन । मनुष्य है कि आते ही आते सो गया । और अभी तक नहीं चौंका । द०-मेरे यहाँ एक नयी दुर्घटना हो गयी। उसे और क्या कहूँ । सब सामान मौजुद और चूल्हे में श्राग न जली। - खूब ! यह एक ही रही । लकड़ियाँ न रही होगी। द.-घर में तो लकड़ियों का पहाड़ लगा है। अभी थोड़े ही दिन हुए कि गाँव से एक गाड़ी लकड़ी आ गयी थी। दियासलाई न थी। -( अट्टहास कर ) वाह ! यह अच्छा प्रहसन हुआ । थोड़ी सी भूल ने सारा स्वप्न ही नष्ट कर दिया । कम-से-कम मेरी तो बधिया बैठ गयो । द०-क्या कहूँ मित्र, अत्यन्त लजित हूँ। तुमसे सत्य कहता हूँ। आज से मैं परदे का शत्रु हो गया। इस निगोडी प्रथा के बन्धन ने ठीक होली के दिन ऐसा विश्वासघात किया कि जिसकी कभी भी सभावना न थी। अच्छा अब बतलाओ, बाजार से लाऊँ पूरियों ? अभी तो ताजी मिल जायेंगी। श्रा०–बाजार का रास्ता तो मैंने भी देखा है। कष्ट न करो। जाकर बोर्डिङ्ग हाउस में खा लूँगा । रहे ये महाशय, मेरे विचार में तो इन्हें छेड़ना ठीक नहीं। पड़े-पड़े खर्राटे लेने दो । प्रात काल चौंकेंगे तो घर का मार्ग पकड़ेंगे। द०-तुम्हारा यों वापस जाना मुझे खल रहा है। क्या सोचा था, क्या हुआ ! मजे ले-लेकर समोसे और कोफ़ते खाते और गपहचौथ मचाते। सभी आशाएँ मिट्टी में मिल गर्यो। ईश्वर ने चाहा तो शीघ्र ही इसका प्रायश्चित करूँगा। -मुझे तो इस बात की प्रसन्नता है कि तुम्हारा सिद्धान्त टूट गया । अब इतनी आजा दो कि भाभीजी को धन्यवाद दे पाऊँ । द०-शौक़ से जाश्रो। आ० –(भीतर जाकर ) भाभीजी साष्टाग प्रणाम कर रहा हूँ। यद्यपि श्राज के अकाशी भोज से मुझे दुराशा तो अवश्य हुई, किन्तु वह उस 1 आ०-