पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/१९६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


फ्राइडे की शिक्षा । १७५ बन्दूक भरते नहीं देखा था। उसने अपने मन में समझा कि बन्दुक के भीतर मृत्यु विचित्र ढङ्ग से ढेर की देर घुसी है। उसका विस्मय और भय दूर होने में बहुत दिन लगे । यदि मैं उसे न रोकता ते वह शायद मेरा और बन्दूक का पूजन करता। वह बहुत दिनों तक साहस कर के भी बन्दूक को छूता न था। जब वह अकेला रहता था तब चुपचाप बन्दूक के पास जाकर अपनी दीनता दिखलाता था । और हाथ जोड़ कर बन्दूक से विनती कर के कहता था-हे देव ! मेरे प्राण बचाओ। | मैं बकरी के मरे बच्चे को उठा कर अपने घर ले आया और उसका बहुत बढ़िया झोल बनाया। मांस के साथ मुझको नमक खाते देख कर फ्राइडे को बड़ा आश्चर्य हुआ। इशारे के द्वारा उसने मुझ से कहा- “छिः, नमक खाते हो ? उसका कैसा बुरा स्वाद होता है । उसने मेरी देखादेखी थोड़ा सा नमक मुँह में डाल कर थूक दिया और कुल्ला करके फिर भोजन करने बैठा । मैंने भी उसको दिखला कर वे नमक का मांस मुंह में रखकर उसी की तरह थूक दिया । किन्तु इससे कोई फल न हुआ। वह किसी तरह नमक खाने को राज़ी न हुआ। दूसरे दिन मैंने उसको कबाब खिलया। उसके आनन्द का क्या पूछना है ! उसने बार बार उसँग कर मुझे समझाया कि यह बड़ा ही अच्छा है, खाने में खुब स्वादिष्ट है। उसने कहा, “अब मैं कभी नर-मांस न खाऊँगा । यह सुन कर मैं प्रसन्न हुआ। तब मैंने उसको धान कुटना और आटा पीसना आदि सिखलाया। उसने बात की बात में ये सब काम सीख लिये।