पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/३१४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


द्वीप में असभ्येां का उपद्रव। २९१ कर उन दोने अँगरेज़ का हृदय भी जलने लगा। असभ्य गण धीरे धीरे जडूल और झाड़ी में ग्रहवासियों को खोजने लगे । असभ्यों के झुंड को आगे बढ़ते देख कर अँगरेज़ कुछ और पीछे हट गये । जहूल में एक बहुत मोटा पेड़ था जो सूख कर खोखला हो गया था । वे दोनों अँगरेज़ उसीके भीतर छिप कर असभ्यर्थों के देखने लगे । कुछ ही देर बाद उन्होंने देखा कि दो असभ्य उनकी ओर दौड़े आ रहे हैं । उनकी चेष्टा देखने से यही मालूम होता था कि वे गुप्तस्थान का पता पाकर अँगरेज़ों को पकड़ने के लिए आ रहे हैं । यह सेच कर अँगरेज़ बहुत घबराये । वे भागें या वहीं रहें, इसकी चिन्ता हुई । भागें ही तो कहाँ जानें १ असभ्य लोग चारों ओर जंगल में फैल गये थे । झागने से अधिक संभव था कि उनके सामने जा पड़ते। यह सोचविचार कर उन्होंने जहाँ थे वहीं स्थिर रहना उचित समझा। यदि किसी तरह की गड़बड़ देखने में आती तो वे पेड़ पर चढ़ जाते । अग्रवर्ती दोनों असभ्य उनके पास से होकर आगे बढ़ गये । इससे मालूम हो गया कि उन्होंने गरेज़ को नहीं देखा। किन्तु उनके पीछे तीन आदमी और उनके भी पीछे के पाँच आदमी बिलकुल सामने उसी पेड़ की ओर आने लगे । तब अँगरेज़ भरी हुई बन्दूक का लक्ष्य ठीक करके उनको अपने समीपवर्ती होने की अपेक्षा करने लगे । जब वे असभ्य कुछ और अग्रसर हुए तब अँगरेज़ों ने पहचाना कि उनमें एक वही था जो पहले बन्दी हुआ था । उसको देखते ही अँगरेज़ के हृदय में एकाएक आग बल उठी। उन्होंने निश्चय किया ?