पृष्ठ:राबिन्सन-क्रूसो.djvu/४८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
३९
क्रूसो की खेती ।


खेती बारी के उपयुक्त अनेक वस्तु--यथा हल, फाल, कुदाल, खुरपी, इत्यादि खरीद कर अपने साथ लेते आये । मैंने ये चीजें लाने के लिए उनसे न कहा था । वे अपनी दूरदर्शिनी बुद्धि की प्रेरणा से ही लाये थे । उन चीज़ो से भविष्य में मेरा यथेष्ट उपकार और सुविधायें हुई थीं । अपने पास से रुपया देकरछः वर्ष के करार परवे मेरे लिए एक नैकर मोल लेकर साथ लाये थे । इन अनेक अनुग्रहो के बदले, उनसे यह कह कर कि यह मेरे खेत की तम्बाकू है, मैंने कुछ तम्बाकू ले लेने के लिए उन्हें राजी किया ।

उस समय मेरी दशा बहुत उत्तम हो चली थी, और खेती का कारबार भी बढ़ गया था । मैंने कप्तान के दिये नौकर के अलावा दो नौकर और ख़रीदे-—एक हबशी और एक फिरंगी ।

ब्रेज़िल में मेरे चार वर्ष गुजर गये । खेती में मुझे खासा लाभ हुआ । यदि मैं कुछ दिन और सन्तोषपूर्वक खेती का व्यवसाय करता रहता तो मेरे पिता ने मेरे लिए जैसा कुछ गृहस्थी का सुख सोच रक्खा था वैसा ही सुख पाकर मैं एक सम्पन्न गृहस्थ हो जाता । किन्तु चुपचाप बैठकर घर का सुस्वादु अन्न खाना मेरी तकदीर में लिखा ही न था । मेरे सुख के पीछे पीछे सनीचर लगा फिरता था । मैंने आप ही अपना सर्वनाश करने को कमर बाँधी थी । यहाँ भी उसका व्यतिक्रम न हुआ ।

मैंने यहाँ की सब प्रकार की भाषायें सीखी थीं और पड़ोस के कितने ही किसानों के साथ तथा सन्त सालवाडोर बन्दर के व्यापारियों के साथ मेरी जान पहचान हो गई थी । मैं प्रसंगवश उन लोगों से गिनी उपकूल में हबशियों के साथ