पृष्ठ:विनय पत्रिका.djvu/४५४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


४५९ परिशिष्ट 'उससे कहा कि तुम यह घोर कर्म जिनके लिये कर रहे हो, वह तुम्हारे इस पापकर्मके भागी न होंगे। रत्नाकर इसपर अपने कुटुम्बके लोगोंसे इस विषयमें पूछनेके लिये गया। जब उसके परिवारके लोगोंने साफ-साफ कह दिया कि हम तुम्हारे पापके भागी नहीं हैं तो वह नारदजीके पास आकर उनके पैरोंमें गिर पड़ा और क्षमा-याचना करते हुए पूछा कि 'मेरा अब कैसे उद्धार होगा, नारदजीने उसे 'राम' मन्त्रका उपदेश दिया। उसने कहा कि मै राम-मन्त्र नहीं जप सकता, तब देवर्षिने उससे रामका उलटा 'मरा-मरा' जपनेको कहा। इसीके प्रतापसे पीछे वही व्याध 'वाल्मीकि मुनिके नामसे प्रसिद्ध हुआ। ९७-सुरपति कुरुराज, वलिसो........"वैर विसहते- सुरपति- ' एक बार देवर्षि नारदजी वर्गसे पारिजात-पुष्प लाकर रुक्मिणी- को दे गये । सत्यभामाको उसके लेनेकी इच्छा हुई । परन्तु सौत होनेके कारण रुक्मिणीसे वह मॉग नहीं सकती थी और रुक्मिणीके पास वैसे पुष्पका होना भी उससे देखा नहीं जाता था, इसलिये उसने पारिजात-पुष्पके लिये मान किया । यद्यपि उसका यह हठ और मान ईर्ष्यायुक्त होनेके कारण अनुचित था, परन्तु भगवान्ने भतिवश उसपर कुछ ध्यान नहीं दिया और खर्गमें जाकर इन्द्रसे लड़कर पारिजात-वृक्ष ही उखाड़ लाये और सत्यभामाके भवनके सामने बगीचेमें उसे लगा दिया। पॉचों भाई पाण्डवोंका मिलकर द्रौपदीको रख लेना, कौरवोंके