पृष्ठ:वैदेही-वनवास.djvu/७६

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ जाँच लिया गया है।

वैदेही-वनवास

न रक्षित था उनसे धन धाम ।
न लोगों का आचार विचार ॥
न ललनाकुल का सहज सतीत्त्व ।
न मानवता का वर व्यवहार ॥३९॥

एक कर में थी ज्वलित मशाल ।
दूसरे कर में थी करवाल ॥
एक करता नगरों का दाह ।
दूसरा करता भू को लाल ॥४०॥

किये पग-लेहन, हो, कर-बद्ध ।
कुजन का होता था प्रतिपाल ॥
सुजन पर बिना किये अपराध ।
वलाये दी जाती थी डाल ॥४१॥

अधमता का उड़ता था केतु ।
सदाशयता पाती थी शूल ॥
सदाचारी की खिंचती खाल ।
कदाचारी पर चढ़ते फूल ॥४२॥

राज्य में पूरित था आतंक ।
गला कर्त्तन था प्रातः - कृत्य ।।
काल वन होता था सर्वत्र ।
प्रजा प्रीड़न का ताण्डव नृत्य ॥४३॥