पृष्ठ:सरदार पूर्णसिंह अध्यापक के निबन्ध.djvu/७

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ अभी शोधित नहीं है।

थीं जिसमें भारतीय और जापानी विधार्थी काफी संख्या में रहा करते थे, इस संस्था के पूर्णसिंह मंत्री थे। इनके ऊपर जापानियों के सरसता और उनके कुसुम कोमल प्रेम-भाव क बड़ा प्रभाव पड़ जापान के शान्ति-आनन्द के उपासक अनेक व्यक्तियों, कवियों और कलाकारों से इनका परिचय हुआ, साथ ही वहाँ के बुद्ध धर्म का इनके ऊपर अत्याधिक प्रभाव पड़। जापान में हाथ के कला-कौशल को देखकर ये मुख्यधारा हो गयी। कुल मिलाकर इन्होंने कर्म और भावना, जीवन और अध्यात्म दोनों दृष्टियों चेक नवीन आनन्द का अनुभव किया।