पृष्ठ:साहित्य का उद्देश्य.djvu/२०५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
२०४
साहित्य का उद्देश्य

अपरिचित है। हम दोनों ही के लिए दोनो लिपियो का और दोनो भाषाओ का ज्ञान लाजमी है । और जब हम जिन्दगी के पद्रह साल अँगरेजी हासिल करने मे कुरबान करते हैं तो क्या महीने-दो-महीने भी उस लिपि और साहित्य का ज्ञान प्राप्त करने मे नहीं लगा सकते, जिस पर हमारी कौमी तरक्की ही नहीं, कौमी जिन्दगी का दारोमदार है ?

________



आर्यसमाज के अन्तर्गत आर्यभाषा सम्मेलन के वार्षिक अवसर पर लाहौर मे दिया गया भाषण ।