पृष्ठ:साहित्य का उद्देश्य.djvu/२०६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
उर्दू,हिन्दी और हिन्दूस्तान
 

यह बात सभी लोग मानते है कि राष्ट्र को दृढ और बलवान बनाने के लिए देश मे सांस्कृतिक एकता का होना बहुत आवश्यक है। और किसी राष्ट्र की भाषा तथा लिपि इस सांस्कृतिक एकता का एक विशेष अंग है। श्रीमती खलीदा अदीब खानम ने अपने एक भाषण में कहा था कि तुर्की जाति और राष्ट्र की एकता तुर्की भाषा के कारण ही हुई है । और यह निश्चित बात है कि राष्ट्रीय भाषा के बिना किसी राष्ट्र के अस्तित्व की कल्पना ही नहीं हो सकती । जब तक भारतवर्ष की कोई राष्ट्रीय भाषा न हो, तन तक वह राष्ट्रीयता का दावा नहीं कर सकता। सम्भव है कि प्राचीन काल में भारतवर्ष एक राष्ट्र रहा हो; परन्तु बौद्धों के पतन के उपरान्त उसकी राष्ट्रीयता का भी अन्त हो गया था । यद्यपि देश मे सांस्कृतिक एकता वर्तमान थी, तो भी भाषाओं के भेद ने देश को खण्ड खण्ड करने का काम और भी सुगम कर दिया था । मुसलमानों के शासनकाल मे भी जो कुछ हुआ था, उसमे भिन्न-भिन्न प्रान्तो का राजनीतिक एकीकरण तो हो गया था, परन्तु उस समय भी देश मे राष्ट्री- यता का अस्तित्व नही था । और सच बात तो यह है कि राष्ट्रीयता की भावना अपेक्षाकृत बहुत देर से ससार मे उत्पन्न हुई है और इसे उत्पन्न हुए लगभग दो सौ वर्षों से अधिक नहीं हुए । भारतवर्ष मे राष्ट्रीयता का प्रारम्भ अंगरेजी राज्य की स्थापना के साथ-साथ हुआ। और उसी की दृढ़ता के साथ साथ इसकी भी वृद्धि हो रही है। लेकिन

इस समय राजनीतिक पराधीनता के अतिरिक्त देश के भिन्न-भिन्न अंगों

२०५