पृष्ठ:साहित्य का उद्देश्य.djvu/९४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
८८
साहित्य का उद्देश्य

पटरी पर लेट गया। ज़रा देर मे एक गाड़ी आई और उसकी हड्डियो तक को चूर-चूर कर गई।

चौथी घटना एक दूसरे नगर की है। मन्दिरो पर स्वयसेवकों का पहरा था । स्वयसेवक जिसे विलायती कपड़े पहने देखते थे उसे मन्दिर मे न जाने देते थे। उसके सामने लेट जाते थे। कही-कहीं स्त्रियाँ भी पहरा दे रही थीं । सहसा एक स्त्री खद्दर की साडी पहने आकर मन्दिर के द्वार पर खडी हो गई। वह कॉग्रेस की स्वयंसेविका न थी, न उसके अचल मे सत्याग्रह का बिल्ला ही था । वह मन्दिर के द्वार के समीप खड़ी तमाशा देख रही थी और स्वयसेविकाएँ विदेशी वस्त्र-धारियो से अनुनय-विनय करती थीं, सत्याग्रह करती थी। पर वह स्त्री सबसे अलग चुपचाप खड़ी थी । उसे आये कोई घटा-भर हुआ होगा, कि सड़क पर एक फिटन पाकर खड़ी हुई और उसमे से एक महाशय सुन्दर महीन रेशमी पाड़ की धोती पहने निकले । यह थे रायबहादुर हीरामल, शहर के सबसे बड़े रईस, आनरेरी मैजिस्ट्रेट, सरकार के परम भक्त और शहर की अमन-सभा के प्रधान । नगर मे उनसे बढ़कर कॉग्रेस का विरोधी न था । पुजारीजी ने लपककर उनका स्वागत किया और उन्हें गाड़ी मे उतारा । स्वयंसेविकालो की हिम्मत न पड़ी, कि उन्हे रोक ले । वह उनके बीच मे होते हुए द्वार पर आये और अन्दर जाना ही चाहते थे, कि वही खद्दरधारी रमणी श्राकर उनके सामने खड़ी हो गई और गम्भीर स्वर मे बोली-आप यह कपड़े पहनकर अन्दर नहीं जा सकते।।

हीरामलजी ने देखा, तो सामने उनकी पत्नी खड़ी है। कलेजे मे बरछी-सी चुभ गई । बोले-तुम यहाँ क्यो आई ?

रमणी ने दृढ़ता से उत्तर दिया-इसका जवाब फिर दूंगी। आप यह कपड़े पहने हुए मन्दिर मे नहीं जा सकते ।

'तुम मुझे नहीं रोक सकती।'

'तो मेरी छाती पर पॉव रखकर जाइएगा।'

यह कहती हुई वह मन्दिर के द्वार पर बैठ गई।