पृष्ठ:सुखशर्वरी.djvu/१५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


________________

उपन्यास। - AMMMMMMMMMMMMMMMMMMMMMMVVVVV VMVMMM हमलोगों का परिचित सुरेन्द्रकुमार है। . वद्धा ने बालक को गोदी में लेकर कहा,-"हां! बेटा! पानी बरसने से क्या तुम्हें कुछ कष्ट होता है ?" __ "अब पानी खुलेगा" यह कहकर फकीर ने वृद्धा से पूछा कि, "यह बालक किसका है ?" वद्धा ने हँसते हँमते कहा,-'अब यह मेग बालक है।" फकीर ने आग्रहपूर्वक पूछा,-"तुम्हारा “अब" शब्द सुनकर मेरा कुतूहल गढ़ गया !" वद्धा,-"तो सुनो, तुमसे सब बात कहती हूं-यह बालक सचमुच मेरा नहीं हैं, प्रायः पांच चार दिन हुए कि प्रातःकाल के समय इसकी बहिन इसे संग लेकर रोती रोती आश्रय ढंढने के लिये यहाँ गाई । मैंने उससे सब बातें पूछौं । सुनने से बड़ा दुःख हुआ। इसीलिये उसके दुःख से दुःखित होकर, यहीं आश्रय दिया । तबसे ये दोनों यहीं रहते और मुझे मां कहते हैं." पथिक,----"तुमने उससे क्या पूछा था ? " वद्धा,-"यही कि, 'बेटी तुम क्यों रोती हो' ?”. पथिक,-"उसने क्या कहा ?" . वुद्धा,-"हां भाई! आते आते मार्ग में उसके पिता का परलोक हुमा । अपना-पराया कोई न रहने से वह रोती थी।" ... पथिक,-"हा! बड़े दुःख की बात है ! ये लोग कहांसे आते थे?" वद्धा,-वहीं से तो-ऐ-हां ठीक याद पड़ा, हरीपुर से ! • तुम बेटा हरीपुर जानते हो ?" . __पथिक,-"आंख से तो नहीं देखा है, किन्तु नाना की बूआ की चाची के मुख से सुना था। ये लोग क्यों आते थे ?" .. वृद्धा,-वहीं के जमीदार के अत्याचार से।" पथिक,-'कौन अत्याचार ?" वृद्धा,-"देखो बेटा ! हरीपुर के जमीदार को लड़काबाला नहीं है, वह बलात् इसी बालक को दत्तक लिया चाहता है।" पथिक,-"या अल्लाह ! हमलोगों का कहां ऐसा भाग है कि अपना बालक न होने से दूसरे का लड़का लेकर सुख उठावें ! हां इसके बाद ?" वडा -"अनन्तर भयानक अत्याचार से घबड़ाकर रातोंरात