पृष्ठ:सेवासदन.djvu/२३१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
२६४ सेवासदन

वेश्याओंका नाच करानेके लिये एक भारी टैक्स लगाया जाय,और ऐसेजलसे किसी हालतमे खुले स्थानोंमें न हो।

प्रोफेसर रमेशदत्तने उसका समर्थन किया ।

मैयद शफकतअली ( प० डिप्टो० कले) ने कहा——इस तज- वोजमे मुझे पूरा इत्तफाक है, लेकिन बगैर मुनासिब तरमीमके में इस तसलीम नहीं कर सकता। मेरी राय है कि रिज्योलूशन के पहले हिस्से में यह अल्फाज बढा दिये जायें——वइस्तसनाय उनके जो नौ माह के अन्दर या तो अपनी निकाह कर ले , या कोई हुनर सीख ले, जिससे बह जायज तरीकेपर जिन्दगी बसर कर सके ।

कुंवर अनिरुद्ध सिंह वोले, मुझे इस तरमीमसे पूरी सहानुभूति है । हमें वेश्याओका पतित समझनेका कोई अधिकार नहीं है, यह हमारी परम घप्टता है । हम रात-दिन जो रिश्वते लेते हैं , सूद खाते है, दीनोका ‘रक्त चूसते है, असहायोंका गला काटते हैं , कदापि इस योग्य नही है कि समाजके किसी अगको नीच या तुच्छ समझे । सबसे नीच हम है, सबसे पापी, दुराचारी, अन्यायी हम है जो अपनेफो शिक्षित,सभ्य, उदार, सच्चा समझते है । हमारे शिक्षित भाइयोंहीकी बदौलत दालमण्डी आवाद है, चीकमे चहल-पहल है, चकलोंमें रौनक है । यह मीना- बाजार हम लोगों ही ने सजाया है, ये चिड़ियाँ हम लोगों ने ही फंसाई है, ये कठपुतलियां हमने बनाई है । जिस समाजसे अत्याचारी जमीदार, रिश्वती राज्य-कर्मचारी,अन्यायी महाजन,स्वार्थी बन्धु अदर और सम्मानके पात्र हो, बहाँ दालमण्डी क्यो न आबाद हो ? हरामका धन हरामकारीके सिवा और कहां जा सकता है ? जिस दिन नजराना, रिश्वत और सूद-दर-सूदका अन्त होगा, उसी दिन दालमण्डी उजड़ जायगी, वे चिड़ियाँ उड़ जायेंगी-पहले नही । मुलय प्रस्ताव इस तरमीमके बिना नश्तरका वह घाव है जिसपर मरहम नही। में उसे स्वीकार नहीं कर सकता ।

प्रभाकररावने कहा, मेरी समझमें नहीं आता कि इस तरमीमका रिज्योल्यूशनसे क्या सबध है ? इसको आप अलग दूसरे प्रस्तावके रूपंग