पृष्ठ:सेवासदन.djvu/२५८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
सेवासदन ३०५


रातभर किसीको खबर न हुई। सबेरे चौकीदार ने आकर विट्ठल से यह समाचार कह। वह घबराये और लपके हुए सुमन के कमरे में। सब चीजे पडी हुई थीं केवल दोनों बहनों का पता न था। बेचारे बड़ी नामे पड़े। पद्मसिंह को कैसे मुँह दिखाऊँगा? उन्हें उस समय सुमनपर आया । यह सब उसीकी करतूत है, वही शान्ताको बहकाकर ले गये हैं। एकाएक उन्हे सुमन की चारपाईपर एक पत्र पड़ा हुआ दिखाई दिया लपककर उठा लिया और पढ़ने लगे। यह पत्र सुमन ने चलते समय बकर रख दिया था। इसे पढ़कर विट्ठलदास को कुछ धैर्य हुआ। लेकिन इसके साथ ही उन्हें यह दुःख हुआ कि सुमनके कारण मुझे नीचा ना पडा। उन्होंने निश्चय कर लिया था कि मैं अपने धमकी देनेवालों को नीचा दिखाऊँगा, पर यह अवसर उनके हाथसे निकल गया, अब लोगो समझगे कि मैं डर गया,यह सोचकर उन्हें बहुत दुःख हुआ।

आखिर वह कमरे से निकले। दरवाजे बन्द कराये और सीधे पद्मसिंह के घर पहुंँचे ।

शर्माजीने यह समाचार सुना तो सन्नाटे में आ गये। बोले, अब क्या होगा ?

विठ्ठल--वे अमोला पहुँच गई होगी।

शर्मा--हाँ, सम्भव है।

विट्ठल-- सुमन इतनी दूर सफर तो मजे में कर सकती है।

शर्मा--हाँ ऐसी नासमझ तो नही है।

विट्ठल--सुमन तो अमोला गई न होगी।

शर्मा--कौन जाने, दोनों कही डूब मरी हो।

विट्ठल--एक तार भेजकर पूछ क्यों न लीजिए।

शर्मा-- कौन मुंह लेकर पूछूं? जब मुझसे इतना भी न हो सका कि शैन्ता की रक्षा करता, तो अब उसके विषय में कुछ पूछ ताछ करना मेरे लिए लज्जाजनक है। मुझे आपके ऊपर विश्वास था। अगर जानता कि ताप ऐसी लापरवाही करेगे तो उसे मैंने अपने ही घर में रखा होता।