पृष्ठ:सेवासदन.djvu/२७२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
सेवासदन ३१९


किसी सहारे के संसार मे रहने का विचार करके उसका कलेजा कांपने लगता था। वह अकेली असहाय, संसार-संग्राम में आने का साहस न कर सकती थी। जिस संग्राम में बड़े-बड़े कुशल,धर्मशील, दृढ संकल्प मनुष्य मुंह की खाते हैं, वहाँ मेरी क्या गति होगी। कौन मेरी रक्षा करेगा? कौन मुझे सँभालेगा? निरादर होनेपर भी यह शंका उसे यहाँ से निकलने न देती थी।

एक दिन सदन दस बजे कही से घूमकर आया और बोला, भोजन में अभी कितनी देर है, जल्दी करो। मुझे पण्डित उमानाथ से मिलने जाना है। चाचा के यहाँ आये हुए है।

शान्ता ने पूछा, वह यहाँ कैसे आये?

सदन--अब यह मुझे क्या मालूम? अभी जीतन आकर कह गया है कि वह आये हुए है और आज ही चले जायेंगे। यहाँ आना चाहते थे, लेकिन (सुमनकी ओर इशारा करके) किसी कारण से नहीं आए।

शान्ता--तो जरा बैठ जाओ, यहाँ अभी घण्टों की देर है।

सुमन ने झुंझलाकर कहा,देर क्या है, सब कुछ तो तैयार है। आसन बिछा दो, पानी रख दो,मैं थाली परसती हूँ।

शान्ता--अरे,तो जरा ठहर ही जायेंगे तो क्या होगा? कोई डाक गाडी छूटी जाती है? कच्चा-पक्का खाने का क्या काम?

सदन--मेरी समझ नही आता कि दिनभर क्या होता रहता है! जरा-सा भोजन बनाने में इतनी देर हो जाती है।

सदन जब भोजन करके चला गया, तब सुमन ने शान्ता से पूछा, क्यों शान्ता, सच बता, तुझे मेरा यहाँ रहना अच्छा नही लगता? तेरे मन में जो कुछ हैं वह मैं जानती हूँ, लेकिन तू जबतक अपने मुंहसे मुझे दुत्कार न देगी, मैं जानेका नाम न लूगी। मेरे लिए कही ठिकाना नही है।

शान्ता--बहन, कैसी बात कहती हो, तुम रहती हो तो घर संभला हुआ है, नही तो मेरे किए क्या होता?

सुमन--यह मुंँह देखी बात मत करो,मैं ऐसी नादान नही हूं। मै तुम दोनों आदमियो को अपनी ओर से कुछ खिचा हुआ पाती हूं।