पृष्ठ:सेवासदन.djvu/२८७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
३४०
सेवासदन
 

सुमन गिरती-पड़ती चली जाती थी, मालूम नही कहाँ, किधर? वह अपने होश में न थी। लाठी खाकर घबराये हुए कुत्ते के समान वह मू बथामें लुढ़कती जा रही थी। सँभलना चाहती थी, पर सँभल न सकती थी । यहाँ तक कि उसके पैरोंमें एक बड़ा-सा काटा चुभ गया । वह पैर पकड़कर बैठ गई । चलनेकी शक्ति न रही।

उसने बेहोशी के बाद होशमें आनेवाले मनुष्यके समान इधर-उधर चौंककर देखा। चारों ओर सन्नाटा था, गहरा अन्धकार छाया हुआ था,केवल सियार अपना राग अलाप रहे थे। यहाँ मैं अकेली हूँ, यह सोचकर सुमनके रोए खड़े हो गये। अकेलापन किसे कहते हैं, यह उसे आज मालूम हुआ । लेकिन यह जानते हुए भी कि यहाँ कोई नहीं है। मैं ही अकेली हूँ। उसे अपने चारों ओर नीचे ऊपर नाना प्रकारके जीव आकाशमें चलते हुए दिखाई देते थे । यहाँतक कि उसने घबड़ाकर आँखे बन्द कर लीं । निर्धनता कल्पनाको अत्यंत रचनाशील बना देती है।

सुमन सोचने लगी, मैंं कैसी अभागिनी हूं। और तो और अपनी सगी बहन भी अब मेरी सूरत नहीं देखना चाहती। उसे कितना अप नाना चाहा, पर वह अपनी न हुई । मेरे सिर कलंकका टीका लग गया और वह अब धोनेसे नहीं धुल सकता । मैं उसको या किसीको दोष क्यो दूं? यहू सब मेरे कर्मोंका फल है। आह! एडीमें कैसी पीडा हो रही है। यह काँटा कैसे निकलेगा? भीतर उसका एक टुकडा टूट गया कैसा टपक रहा है। नहीं, मैं किसीको दोष नही दे सकती। बुरे कर्म तो मैंने किये, उनका फल कौन भोगेगा? विलास लालसा ने मेरी यह दुर्गति की। मैं कैसी आन्धि हो गई थी, केवल इन्द्रियों के सुखभोग के लिये अपनी आत्माका नाश कर बैठी। मुझे कष्ट अवश्य था। में गहन को तरसती थी, अच्छे भोजन को तरसती थी, प्रेमको तरसती थी, उस समय मुझे अपना जीवन दुखमय दिखाई देता था, पर वह अवस्था भी तो मेरे पूर्व जन्म के कर्मो का ही फल था और क्या ऐसी स्त्रियाँ नहीं