पृष्ठ:सेवासदन.djvu/९९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
११६
सेवासदन
 


पहचाना । एक बार उसकी ओर दबी आंखो से देखा, फिर जैसे हाथ पाँव फूल गये हो। जब सुमन सिर झुकाये हुए उनके सामने आकर खडी हो गई तो वह झेंपे हुए दीनतापूर्ण नेत्रो से इधरउधर देखने लगे , मानो छिपने के लिये कोई बिल ढूंढ रहे हो । तब अकस्मात् वह लपककर उठे अीर पीछे की और फिरकर वेग के साथ चलने लगे । सुमन पर जैसे वज्रपात हो गया । वह क्या आशा मन में लेकर आयी थी और क्या आंखों से देख रही है ! प्रभु यह मुझे इतना नीच और अधम समझते है कि मेरी परछाई से भी भागते है । वह श्रद्धा जो उसके हृदय मे शर्माजी के प्रति उत्पन्न हो गई थी, क्षणमात्र में लुप्त हो गई । बोलों, में आपसे कुछ कहने आई हुँ, जरा ठहरिये मुझ पर इतनी कृपा कीजिये ।

शर्माजी ने और भी कदम बढ़ाया, जैसे कोई भूत देख कर वहाँ से भागे । सुमन से यह अपमान न सहा गया । तीव्र स्वर से बोली, मैं आापसे कुछ माँगने नही आई हूँ कि आप इतना डर रहे है । मैं आपको केवल यह कंगन देने आई हूँ। यह लीजिए अब में आपने आप ही चली जाती हूं।

यह कहकर उसने कंगन निकाल कर शर्माजी की तरफ फेंका ।

शर्माजी ठिठक गये, जमीन पर पड़े हुए कंगन को देखा । यह सुभद्रा का कंगन था ।

सुमन बग्घी की तरफ कई कदम जा चुकी थी । शर्माजी उसके निकट आकर बोले, तुम्हें यह कंगन कहाँ मिला ?

सुमन अगर मैं आपकी बातें न सुनूं और मुंह फेर कर चली जाऊँ तो आपको बुरा न मानना चाहिये ।

पद्म—सुमन बाई, मुहँ लज्जित न करो मैं तुम्हारे सामने मुंह दिखाने योग्य नहीं हूं। सुमन- क्यों ? पद्म- मुझे बार-बार यह वेदना होती है कि अगर उस अवसर पर मैने तुम्हें अपने घर से जाने के लिये न कहा होता तो यह नौबत न आती।

सुमन - तो इसके लिये आपको लज्जित होने की क्या आवश्यकता