पृष्ठ:हिंदी भाषा और उसके साहित्य का विकास.djvu/९

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ अभी शोधित नहीं है।
परिशिष्ट।

इस ग्रंथ के पृष्ट १३ में मैंने यह प्रतिपादन किया है, कि आय-जातिका मूल निवास-स्थान भारतवर्ष ही है, वह किसी दूसरे स्थान से न तो आई है, और न वह उसका उपनिवेश है। इसकी पुष्टि के कुछ और प्रमाण नीचे लिखे जाते हैं-

विद्वद्वर श्रीनागयण भवनराव पावगी मराठी भाषा के प्रकाण्ड विद्वान् हैं, उन्हों ने अंगरेज़ो में एक गवेषणापूण ग्रंथ लिखा है, उसका नाम है 'दि आर्यावर्टिक होम एण्ड दि आर्यन क्रेडल इन दि सपृसिंधु । इस ग्रंथका अनुवाद हिन्दी भाषा में हो गया है, उसका नाम है 'आर्यों का मूल स्थान, उसके कुछ अंश ए हैं-

'एम० लुई जैकोलिअट लिग्वते हैं, भारत संसार का मूल स्थान है, वह सब की माता है। भारत, मानव-जाति की माता. हमारी सारी परम्पराओं का मूल स्थान प्रतीत होता है, इस प्राचीन देशक सम्बन्ध में, जो गोगे-जाति का मूल-स्थान है, हमने सत्य बात का पता पाना प्रारंभ कर दिया है। पृष्ट ३५

फ़रासीस विद्वान् क्र जर स्पष्ट शब्दों में लिखते हैं-

“यदि पृथ्वी पर ऐसा कोई देश है. जो मानव-जाति का मूल-स्थान या कमसे कम आदिम सभ्यता का लीलाक्षेत्र होने के आदर का दावा न्यायतः कर नंकता है, और जिसकी वे समुन्नतियां और उसमें भी परेविद्याकी वे न्यामतें जो मनुष्य जाति का दूसग जीवन हैं, प्राचीन जगत के सम्पूर्ण भागों में पहुंचाई गई हैं, तो वह देश निस्सन्देह भारत है" पृष्ट ७३ ..