पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/१६८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


पायुविज्ञान फो पदार्थ हो, विश्यम्यापोईयर (Ether) मनन्त) माशागमे व्याप्त है। इयर होने में ही जगत् सूप । कयियोंने माहाको भगात मोलिमा गोमा REAसे प्रभावित हो रहा है और सूर्यकिरण गो उराप्त माधुका यन किया है। मामाका-यद रंग घायुः हो रही है। इस विशाल विम-प्रसाण्ड में अम्पका दौरा है। दुरफे पर्वतों पर जो भोलिमा दिया है. पूर्णता ममाय है। जो हो, याय विशाम ही हमारा यह मो वायुका रङ्ग दो है। दक्षिण पाउचर-परिणम या. मालोज्य विषय है। पाश्चात्य विज्ञानको विविध मावाये पूर्व ना मिधर तुम दूरको गोर देना पर हो.घन . यायुविधानको मालोननास मरो है। ज्योतिर्षिान, नीलिमा-माधुर्य तुम्हारे नेत्रों में प्रतिभात दोगा, यह मां रसायनविज्ञान, मादमिकाम (Accoustics), उम्मिति यायुका रहा है। यह देख कर कुछ लोग करते है। यिमान, (Iygronetry), पाय पचागादि यिशान (Pneu- यागुका रङ्ग गोला है। किन्तु रसके मम्बयम किसने हो । matics), पृष्टि तूफागा विशान ( Meteorologs), शानिकों को फलाना सुनी जाती है। कुछ लोगों पर हरिपिपप यिशान ( Physiology), सासरया विधान है,किपायुका कोई भी नहीं। घर पर घोर MEETर- (Hygiene ) मीर ताएयिशाम ( Thermolog:) | पूर्ण है। योमयाममें जो व्य िमुहर माह fuary गादि गारे विशनों में या यिहानफा तस्य पद्भुत कुछ करते है, ये दूर देशमे काला रामदेवते हैं। इससे TV वित हुमा। हम संक्षेप उसके सम्यग्ध पदां शानिक फलरमा करते है, जियापीय परमाणुको विष- र मालोचना करते हैं। रणतासे सारों का माय दिनाई देता है। इसीमिय ऊंचा लघुतम स्थिर यायप्रदेश सप रफिममायमें बाला इम पाय मालकी अचाका भनाजा लगाने में हो रणदिखाई देता है। माकाम जो मीली कविता शागि यहा परिधर किया है। किसो समय सकी। देता है, यद धनाभूत या सौरफिरणफे मोले रहा प्रतिफटनमान है। सौरकिरण शर पनयाntar अंपाका अन्दाजा ४५ मोल लगभग लगाया गया था, स्तुि इसके बाद स्थिर हुमा कि चाय मण्डलको कर पृथ्योको भोर मागे पढ़ती है. उसको मानी ज्योतिः पाय स्तरमै गोला र प्रतिफलिम करता है। ऊंचा परिमाण १२० मील पातु पिपुरप्रदेश किसी विश्लेषण प्रणालीस ( Spectrun analysis ) अध्यभागमे लघु पि यायु इसको अपेक्षा और भो समें साम्य बन सध्या प्रकाशित किये हैं। पामें अचाई पर है। यहां इसका परिमाण दो सौ मौलस शलीय पारमिलारदमा है. इस पापको मेद कर सीर । काम होगा। ज्योतिर्यिशानसे यायुगएमलको ऊचाई किरण याप मएसलाम गागा वर्णय पिता काट करतो का निर्णय करने यथेट साहाय्य मिला है। है। जलीय यानित पिसा हो सका भारीपन। कारण है। समुह भौराको गोलिममा सम्मान परीक्षा यायुकं भारीपनका भी मन्दामा किया पेशानिकोंने दोरहा मिना किया है। मांसा गया। 4 कांशी मलिकासे पाय निकालगयाले । माघमाल रेवाफ शिनारे पोलां वर्ण या रह पाय- पास या निकाल ली पर यान करमेस जो तो पोप पहायशा मौलिगानिरण प्रतिफलंग हो (Relective) होगा, पाणु भरी हुई मलिकाको तौल उसमे मारा दो। माकामी मोहिमाका कारण है। पाय fast माजी | Musi असे मलराभिम सैरती फिरती है। मालोकप्ररणा (Transmission of rar) बोल मौर को रुपमा गुप्रय मासूम न होता, उसो पर्णपा कारण है। पाप.मगाना in HTERIAL ARI मी या पं. दीनविरत रहने निपे सस्योर (Samsure) IRE कनिक t R उसका गुरुमार गनुभव कार्ग प६ समपहिने मानाtar (Cyanornciti) भोर : नहीं। मामिटर (Diaphonometer) नाम दो मास माथि नाना