पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/३१६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


३१२ तरिक- क्ष माँझो। तरिक (म. पु. ) नराय तागाय रितः त ठन् । १ प्रव. तरिवा--दिनाजपुर जिले में बड़गाँव परगनाके मध्य एक बेड़ा। सरे तरणार्थ देशकग्रहण अधिक्कत इति ठन् । प्रमिच ग्राम । २ नावको उतराई लनवान्ना। ३ मलाह, केट, तररथ ( स० पु. ) तरेः रथव परिचालनात् । परिव, वल्ला 'जममे नाव खेते हैं, डॉड़। • तरिका ( म० बो० ) तरिक-टाप, । नौ का, नाव। तरिवन (हि. पु.) १ एक प्रकारका गहना जिसे स्तियाँ तरिकिन् ( म० ए० ) तरिक-नि। नावि. सांझा। कान पहनता है, तरको। २ कर्णफल । तरि - महिमा गज्या कदर जिने का त क । ( म स्त्रो. ) तरयनया त ई। अघितृस्तृ-तन्त्रि यह अन्ना० १३३० ओर १३ ५४ 3 तयः दंगा । उण २।१५ । १ नौका, नाव । २ गदा । ३ वस्त्र- ७५. ३५ ओर ७६८ पू में अवस्थि: । लोमिया पेक, कपड़ा रखनका पिटाग. पेटो । ४ धूम, धुषा । प्राय: ७८४७२ और नत्रफन ४८ वगमन। इसमें ५ द्रोण, डांगो। कपडंका कोर, दामन। २ शहर ओर २३६ ग्राम लगते हैं। ता एक दक्षिण- नग ! फा० स्त्रो० ) १ भाद्र ता गोन्नःपन । २ शोतनता. पथिमबाब बुदन पनाड और उत्तर नो पाड ठंटनचो भूमि जहाँ बरातका पानो बहुत दिनों है। आजमपुर समोपदोनका कार वगन है। तक जमा रहता है. ककार। ४ तराई, तरहटो । २ लता गलका एमाहर। यह पज ० १३४३ तरोका ( अपु०) १ रोति, प्रकार, ढब । २ चाल, व्यव उ० ओर टश'. ७५ पृ० प्रतित है। ल'कार। ३ युति, उपाय । ग १०१४है। एक सत्तर- काटा तरायम् ( म० वि० ) अतिशयेन तरोता ईयसुन् णो नामका एक म्यान भ. पदों प्राचः न गहा था पोर जा लोपः। अतिशय तारक, बहुत तारनेवाला । १२वों शताब्दा च्यगाल में स्थाति द ग य । १४वी तशेष ( सं० पु. ) त-ईषण । कतृभामीषण । उण ३।१५८ । शताव्द में विनयनगरी गजान दी हप्तगत कर अपने १ शुक गोमय, मूगोचर । २ नौका, नाव । ३ पानी में एक प्रधान के हाथ मौंप दिया । पके ग्ना परिवार ने नो बहनेवान्ना नसता, बेड़ा । ४ व्यवभाय । ५ समुद्र । विजापुर के सुलतानने छोन नि। अमें मुगनान ६ ममथ । ७ स्वर्ग । इम पर अपना पूरा अधिकार जमा वर इमे शामवपत्तन- तरोषन् ( म० पु० ) त छन्दनि ईष नकारस्य नेत्वं । के मरदागेको अपण कर दिया, जिन्होंने १६५- ई में तग्गा, पार होनको क्रिया । तरिक राका टुग और शहर स्थापित किया । १७६१ तराषो म स्त्रो. ) तरोष संजयां डोष,। इन्द्र को ई में यह हैदरचना के अधिकारमं था। रेलके हो कन्या । जानमे पहलेसे प्राजकन्न इमको अवस्था व "त कुछ सधर क (स• पु०) तरति ममुद्रादिकमननति त-उ। भ्रमशी- गई है । १८७० ई में यहाँ म्य निमनटो स्थपिा हुई। नवनि। उ ११७१॥ वृक्ष, गाछ, पेड़। (त्रि.) २ शहरको अय लगभग ८८०) रु.को है। तरक, उद्दार करनेवाला। (पु.) ३ एक प्रकारका सरिंगी ( म० स्त्रो० ) तरम्तरण कृत्यत्वं नास्त्य म्याः इति चौड़। इम पेड़ खासिया पड़ो, चटगाँव और इनि डोप च । नौका, नाव । बरमा में पाये जाते हैं। दमका गोंद सबसे अच्छा होता सरित ( म. वि. ) उत्तोण, पार किया हया। है। तारपोन का तेल भो इससे बहुत अच्छा निक सरिता ( मस्त्रो )तरम्तरणकत्यत्व नाम्त्यम्या: तार लता है। कादित्वात् एतच टाप । १ तर्जनी उँगलो। २ एन्जन, तरुषा (जि. पु० ) उबाले हुए धानका चावल । गाँजा। ३ सोन, लशुन । तरुकूणि ( स पु० ) सरी वृक्ष कूषयति बूम-रन् । तरित्र सलो० ) तरत्यनेन त-ट्रन् । तरणमाधन पक्षि विशेष, एक प्रकारको चिड़िया।' नौकादि, पार होने योग्य नाव इत्यादि। तरच (म० वि०) त-बाहुलकात् उचन्। १ याग पोर