पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/४७७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


तारिणी-मानायक ४७५ तारिणी (म. स्त्री. ) तारिन्-डोप । १ बौद्धीकी एक ताक व (स० वि०) तार्कोविकारः तोरवयव पति वा देवो । सके पर्याय -तारा, महायो पोकार, स्वाहा, कुपण । कोपधाच । पा ॥१५॥त या टेकुपाका यो, मनोरमा, जया, पनन्ता, शिवा, लोकखरामजा, स्वपर- विकार। वामिनो, भद्रा, वेश्या, नीलमरस्वतो, शशिनी, महामारा, ताकि क (म० वि०) सक वेत्ति तथा सत्रमधोते वा तक. वसुधारा धनदा, त्रिलोचना और लोचना । २ हितोया उक । १ तर्कशास्त्रवेत्ता. तक शास्त्र का जाननेवाला । महाविद्या । महोग्रा, तारा, उग्रा, वा, कालो, सरस्वतो, २ सर्कशास्त्राध्ययन कारो, तशास्त्र का पढ़नवाला । कामश्वरी पोर चामुण्डा ये आठ तारिणो है। इनकी ' तर्कशास्त्र के छ भेद हैं-वैशेषिक, पौलु क्य, वाईस्पत्य, पाराधना करनमे मनुष्य कवित्व, पाण्डित्व पोर धन पात, नास्तिक, लौकायति क ( बौदभेद ) और चार्य क । जो हैं तथा राजमभा और विवाद प्रभृति सब कामों में इन सब शास्त्रों को पढ़ते हो या अच्छी तरह जानते हों जय लाम करते हैं। वेदी ताकि करें। तर्क देखो ३ उहारिणो, उच्चार करनेवालो। तार्स । स० पु. ) वृक्ष एव प्रण । कश्यप ऋषि । तारिन् ( स० वि०) सारयति टणिच. णिनि। तारक, २ विनताके गर्भ से उत्पत्र कश्ययका पुत्र गरुड़। उद्धार करनेवाला। ताजि ( म० को०) रमाञ्जन । तारो (हिं. स्त्री.) १ एक प्रकारको चिड़िया । २ ममाधि ताकि ( #• पु०-स्त्रो० ) वृक्षा कस्य अपत्य रक्षाका ध्यान। अण । शिवादिभ्योऽग । पा ४१११२ । वृक्षाकके वंशज । तारोक (फा० वि०) १ स्याह, काना । २ धुंधला, अंधेरा। तार्थी ( म. स्त्री०) तागौर० डोष । पातालगाड़ तारोको ( फा. स्त्रो०)१स्थाहो। २ अन्धकार । लता, छिरेंटो, छिरिएटा। तारोख (अ० स्त्रो' १ महानिका हरएक दिन। २ वह ताा ( म० पु. ) ताक्षस्य अपत्य ताक्ष-धज (गर्गादि- तिथि जिसमें पूर्व कालक किसी वर्ष में कोई विशेष घटना भ्यो यत्र । पा ३१०५ ।। समुनिके गोत्रज । २ गाड़ा- हुई हो। ३ नियत तिथि । ४ इतिहाम, तवारीख । ग्रज अरुण, गरूड़के बड़े भाई अरुणा । ३ गरुड़। ४ पाख, तारोफ (प० स्त्री. १ लक्षण, परिभाषा। २ विवरण, घोडा। ५म, साँव । ६ शालवृक्ष स्वर्ण, मोना । वर्णन। ३ प्रशसा, लाघा, बखान। ४ प्रशसाको ८ प्रवकर्ण वृक्ष, एक प्रकार का शालवृत्त। ८ स्थन्दन, बात, सिफत । रथ। १० पर्वतभेद, एक पहाड़ का नाम । १ विग- तारुमायणि ( म पु०) तारुक्षके वंशज । मात्र, एक प्रकार पक्षो। १२ नत्रियविशेष । १३ मका. तारुच्य ( स. पु. ) साक्षस्य ऋषरपत्य पुमान् ; तरुक्ष देव । ( लो० ) १४ रसाउन। ' गादित्वात् यत्र । तरुक्ष ऋषिके वंशज । लक्षातन ( स० पु०) साक्षा: केतन: यस्य, बबी० । तारुक्ष्यायणी ... स्त्री०) तरुक्षस्य ऋषेरपत्य स्त्रो तरुक्ष- गरुडध्वज, विष्णु। स्फ। सर्वत्र लोहितादिकतन्तेभ्यः। पा ४११। तरुक्ष ताक्षाज (म को०) ताक्षी पर्वते जायते जन-छ । रसा- ऋषिको अपत्य हो । अन, रमोत। तारुण (स' पुम्सो.) तरुणस्य अपत्य' उत्सादित्वात् ताक्ष्म ध्वज (म• पु०) ता ध्वजोऽस्य. बहवो । गरुड़- पत्र ।१ तरुण ऋषिके वंशज । (त्रि०) स्त्रियां डोप । ध्वज, विशा । २ तरुण, छोटो उनका । ताक्षा नायक ( म० पु.) ताणां सर्पाणां नायक: तारुण्य ( म० क्लो. ' तरुणस्य भावः तर बाह्मणादित्वात् प्रापकः, ६ तत्। गरुड़। इसने अपनो माता के दासत्व- था । यौवन, जवानो। कालमें मपोंको बहन किया था। ताग्य (म'• पु०) तारायाः अपत्यं सारा ठक । १ बालिके साक्षानाशक ( स. पु.) ताणां सर्पाणां नाशका, पुचपद। २ वहस्पतिको स्त्री ताराक पत्र बुध । तत् । सर्प नायक गड़। Vol. I. 119