पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/७१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


समेत परिचयं पात पापका भी ऐसा ही मत था। बहुत कुछ रेलगाडीने मिलती जुलती है। किन्तु १८५४ १०में जब कि पाप वीसवर्ष के युवक थे, दोनों में फर्क यो किलिगादी वाष्य हारा चलती सोपजिक विश्वविद्यालयसे डाकरको उपाधि प्रास पोर ट्रामगाड़ी बिजलो जोरसे चलाई जाती है। पहले हुई। इसके बाद पाप अध्यापकपदकी पायासे गटेनवर्ग इसमें घोड़े लगते थे, पब केवल बिजलोडौके हारा बहुत पहुंचे। वहाँ पापने स्वरचित दो कवितामन्य प्रकाशित वेगसे पर्थात् घण्टे में २.१ २५ मौसके हिसावसे चलतो किये। इसमें भी जमनजातिको एकताके लिए उत्तंजना है। बिजली पहले डायनोमोंमें बनतो है। उसी डायनो- दो गई थी। पनन्तर पाप लोपजिकके अध्यापक चुने मोम विद्य तकी पति कालमें लाने के लिये तार लगे रहते गये और इसी कार्य में पापने जीवन बिता दिया। शरएक शामके अगले कमरमें होली रहती है। यहो आपने अध्यापकके पासनसे ही जर्मनी के एकत्व- होती जपरके विद्युत-तारमें लगी रहता है। बिजलीका संसाधनरूप पादयं का प्रचार किया था। १८६३ ई० में धका लगनेडीने गाड़ो पापसे पाप चलने लगती है। इस पापको वेडन राज्यके अन्तर्गत फ्राश्याग विश्वविद्यालय में किसी प्रकारको कम नहीं है केवल विद्युत प्रवाह मैं पतिरिक्त अध्यापकका पद मिला। जुरग इलटा- को सचारण करने के लिये गाड़ौके पगले कमरमें एक इनके युद्ध के समय आपने अपना ऐसा मत प्रचारित चकामा बना रहता है। उसो चकेको घुमानेसे गाड़ो किया था, कि उक्त दोनों राज्य पूशियामें मिला दिये विष त यतिके धक्के से चलती है। हरएक गाड़ी में फस्ट माय और जम मोके छोटे छोटे राज्योका विलोप कर और सेकेण्ड कामके दो डब्बे रहते है। हरएक उब्बों में साम्राज्य संगठन किया जाय। इस पर आपके पिताने टिकट बोटमैके लिये एक एक कर्मचारी रहता जिसे श्रापका मुंह तक देखना छोड़ दिया। जब कालेजर्क कनडकर (Conductor) कहते है। इनके सिवा गाड़ो मालिक अष्ट्रोयाक माथ मिल गये, तब पाप अध्यापकी चलाने के लिये एक हारवर रहता है। रेलगाडीकी तरह से इस्तीफा दे कर एक संवादपत्रका सम्पादन करने इसका स्टेशन दूर दूर नहीं रहता है। जहां कई दश पांच पादमो एक जगह शुटे रहते उसी जगह पर ठहर १८६७१ में आपको पेस-विश्वविद्यालय में अध्यापक जाती है। हरएक डब में पचास साठ पादमौसे कम नहीं नियुक्त हुए। पीछे पाप हाइडिलवर्ग में अध्यापक हुए। बैठते हैं। इसमें कभी कभी जीवन नष्ट होने का भी डर वहां आपने फ्राडोप्रशियाक युद्धक समय छावोंको रहता है। बिजलोको शक्ति पधिक पड़ने अथवा और उत्साहित किया था। १८७११०में पाप नमन-रीकष्टग दूसरे कारणोंसे इसमें भाग लगते देखा गया पीर जब नामक महासभाकै प्रतिनिधि निर्वाचित हुए और बहत विद्युतका प्रवाह कुछ भी न रहता तथा सारमें लगी सम्मान पाया । १८७८ में, लगातार पठारह वर्ष तक कीलो उससे अलग हो जाती है, तो कभी कभी परिश्रम करनेके बाद प्रापने "उबीसवीं शताब्दीका यह पपनी लाइनसे हट कर जमीन पर गिर जाती जर्मन-इतिहास का प्रथम खण्ड प्रकाशित किया । है। भारतवर्ष में यह प्रायः विषततारमें लगी हुई इसका पाँचवाँ खण्ड १८७४१ में निकला था । छठा झोली हाराहो चलती है, किन्तु यूरोप पादि देशों में खण्ड लिखत लिखते पाप बीमार पड़ गये और १८९६ विद्युत्-प्रवाहको जमीनके भीतर अथवा जपर के अप्रेल मासमें पापका देहान्त हो गया। हो कर एक नली चली गई। जिसे पोत कमडट ट्राम ( स्त्री०) बड़े बड़े नगरों में एक प्रकारको (open conduit) कहते है। यह हरएक गाड़ी में लम्बी गाड़ी जो लोहेको बिछो गई पटरी पर चलता है। संयुक्त रहती है। एक सहरमें केवल एक ही नामगाड़ी इसका पाविकार सबसे पहले लण्ड में १८६० को नहीं रहती वरन् प्रत्येक गली और सड़ाके लिये कई हुपा था। अब यह भारतवर्ष तथा दूसरे दूसरे देशोंके एक निश्चित की हुई रहती है। जब शामगाड़ी नहीं पनगरोंकी र एक गलीमे चलने लगी है। या थो, तब बड़े बड़े मारमें शुमने किरने तथा कहीं