पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/२५७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


पस्तो-बहना . फाहियान इस स्थानको देख गये हैं। उस समय बहगा ( हिं० पु० ) बड़ी बहंगी। इसका उत्तरीय भाग जंगलमें परिणत हो गया था। कहते बहंगी ( हिं० स्त्री०) बोझा ले चलनेके लिये तराजूके हैं, कि १३ वीं शताब्दीमें राजपूतवंशने भारस और डोम- आकारका एक ढांचा, कांवर । लगभग चार हाथ लम्बो कटारको परास्त करके इस स्थान पर दखल जमाया। लचीली लकडी या बांसके दोनों छोरों पर रस्सीका इसके बाद बहुतसे राजपूत राजा इस स्थानको ले कर छीका लटका कर नीचे काठका चौकटा-सा लगा देते मापसमें लड़ते रहे। अकबरके शासनकालमें मुसल-: हैं। इसी चौकठे पर रखा जाता है। बांसको मानोंने गोरखपुर जीत कर इस जिलेमें प्रवेश किया और बीचोबीच कधे पर रख कर चलते हैं। राजाको सिंहासमव्युत करके इसे अबध सूबामें मिला, बहकना ( हिं० कि० ) १ मार्गभष्ट होना, भटकना। २ लिया। १६१० ईमें मुसलमानोंकी गोटी यहांसे उखड़ी, किसीकी बात या भुलावेमें आ जाना, बिना भला बुरा पर १६८० ई में उन्होंने फिरसे इमको अपने दखल में किया। विचार किमीके कहने या फुसलानेसे कोई काम कर इसके बादका इतिहास गोरखपुर जिलेके साथ संलग्न! बैठना। ३ ठीक लक्ष्य या स्थान पर न जा कर दूसरी हैं। गोरखपुर देखो। ओर जा पड़ना, चूकना। ४ रस या मदमें चूर रहना, जिलेमें ४ शहर और ६६०३ ग्राम लगते हैं। जन- आपेमें न रहना। ५ किसी बातमें लग जाने के कारण संख्या बोस लाखके करीब है। जिनमेंसे सैकड़े पीछे ८४ शान्त होना। हिन्दू और शेष मुसलमान हैं । यद्यपि यह जिला बहुत बहकाना (हि० कि० ) १ ठीक रास्तेसे दूसरी ओर ले लम्या चौड़ा है, पर म्युनिसपलिटी एक भी नहीं है। जाना या फेरना । २ शान्त करना, बहलाना। ३ कोई जिलेमें कुल मिला कर ३०८ स्कूल हैं। इनमेंसे २ वृटिश उपयुक्त कार्य करानेके लिये बातोंका प्रभाव डालना, गवर्मेण्टसे और १३५ डिष्टिकृबोडसे परिचालित होते भुलावा देना । ४ लक्ष्यभ्रष्ट करना, ठीक लक्षा या स्थान- हैं। स्कूलके अलावा ८ अस्पताल भी हैं। सब मिला कर से दूसरी ओर कर देना । यहांको आबहया अच्छी है। बहत्तर (हिं० वि०) १ सत्तर और दा, सत्तरसे दो ज्यादा। २ उक्त जिलेकी तहसील। यह अक्षा० २६ ३३ से (पु.)२ सत्तरसे दो अधिकको संख्या और अंक जो २७६ उ० तथा देशा० ८२३७ से ८२ ५६ पू०के मध्य इस प्रकार लिखा जाता है.--७२ । अवस्थित है । भूपरिमाण ५३६ वर्गमील और जनसंख्या बहत्तरवां ( हिं० पु०) जिसका स्थान बहत्तर पर पड़े। चार लाखके करीब है। बहदुरा (हिं० पु० ) एक कोड़ा। यह धान वा धनेमें लग ३ उक्त तहसीलका सदर। यह अक्षा० २६ ४७ कर उसके पत्ते काट कर गिरा देता है। उ० तथा देशा० ८२ ४३ पू०के मध्य अवस्थित है। बहन ( हिं० स्त्री० ) बहिन देखो। जनसंख्या प्रायः १४७६१ है। १७ वीं शताब्दीमें यहां बहना (हि. क्रि०) १ द्रवपदार्थीका निम्नतलकी ओर राजप्रासाद था, पर अभी वह खंडहरमें पड़ा है। शहरमें आपसे आप गमन करना, पानी या पानीके रूपकी प्राचीन हिन्दू-राजाका दुग भी देखने में आता है। यहां वस्तुओं का किसी ओर चलना। २ गया बोता होना, तोन स्कूल हैं जिनमेंसे एक बालिकाके लिये है। अधम या बुरा होना। ३ ठीक लक्षा या स्थानसे हट बस्ती ( हिं० स्त्री० ) १ निवास, आबादी। २ जनपद, जाना, फिसल जाना। ४ स्रवित होना, लगातार बूंद बहुतसे घरोंका समूह जिनमें लोग बसते हैं। या धारके रूपमें निकल कर चलना। ५ बिना ठिकाने- बस्तु (सं० स्रो०) वस्तु देखो। का हो कर घूमना, मारा मारा फिरना। ६ सन्मार्गसे बस्त्र (संपु० ) यस देखो। दूर हो जाना, भावारा होना । ७ गर्भपात होना, अड़ाना । वस्य (संवि०) वश्य देखो। ८ सस्ता मिलना, बहुतायतसे मिलना। ६ वायुका पनि (सं० अव्य० ) क्षिप्र, तेजीसे। संचरित होना, हवाका चलना। १० हट जाना, दूर