पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/१२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


रोगविनिश्चय-रोचन रोगधिनिश्चय ( स० पु० ) रोगस्य विनिश्चय । १ रोग । पाडित । पर्याय--व्याधिप्त, विस्त, ग्लान, ब्लाउ, मन्द, निश्चय, रोगका निर्णय करना।२ माघन रुयिनि । मातुर, गया त, अभ्यमित पग्न, सामय, भषटु आम श्चाया प्रथा यात्री, ग्ल्यस्नु । रोगशास्ता (स० पु०) रोगान् शान्तयनाति शाति ण्वुल । रोगिया (हि • पु०) रोगी, वीमारी। धैद्य, चिकित्सक। वैध रोगको जातिविधान करते हैं। रोगियलभ (स० लो०) रोगिणा परम प्रिय । १ औषध । इसीसे उनका रोगगा तक नाम हुमा। (शदच०) (त्रि०)२ रोगिप्रिय । रोगशान्ति ( स० बी० ) रोगमुक्ति, पीडाका अपनोदन। रोगोदक (स० की० ) रोगजा उदक । मेला दुर्ग धादि रोगनिया (म० स्त्री०) रोगाय रोगनिवृत्तये शिला। मन | युक्त रोगजनक जल। गि मेनसिल। रोग्य (स.नि.) १ अपाय, अहित । २ रोगसम्बधा। रोगशिलिन् ( स ० पु०) गेगे शिल्पीर । वृक्षविशेष, रोच ( स० त्रि०) रच घम् । १ रचिर। २ आरोक्ति मोनालका पेड। देखो हुआ। (अथव्य १७११२१) (पु०) ३ राजभेद, एक रोगथ्रेष्ठ ( स०पू०) रोगेषु श्रेष्ठः । ज्वर। गनाका नाम। रोगह (सक्ती .) रोगान् हतीति हन । औषध, रोचक ( स० पु०) रोचयतीति रच णिच्यु ल । १क्षधा, दवाई। भूत । पर्याय-भुक्षा, अशना जिघत्सा, रुचि। (हेम) रोगधराद्रव्य (म० की०) रोगहर द्रश्य । रोगनाशक घस्तु, २कदली, केला । ३ राजपलाण्डु। ४ अश, गजक 1५ यह यस्तु या चीज जिससे रोग विनष्ट हो। एक प्रकारकी प्रधिपणीं। इसे नेपाल में 'मदेउर' कहते रोगहारिन् ( स० पु०) गेग हरति णिनि । १ चैत्र ।। है। इसका पर्याय-निशाचर, धनहर, विनय, गण (ति०)२गा । दासक । गुण-मपुर तित पटु रघु तीक्ष्ण, दुध, रोगहुन् (म० सि०)रोग हरति कित् तुक च। रोग शीतल, कण्ड कुष्ट कर घायु, खरभेद, असम्भर विष ना | और घणनाशक । (भाष०) ६ काचकुप्यादिवारक, रोगदेतु ( स० पु० ) रोगस्य हेतु । रोगका हेतु, बीमारी काचकी कुप्पी या शीशी वानेवासा (नि.) ७ मचि का कारण कारक, रुखनेवाला । ८ मनोरञ्जक, दिलचस्प। रोगपात (स.नि.) व्याधि पौडित, गेगसे घिग | रोचश्ता ( स० स्त्री०) किक हानेका भार, मदिरता। हुभा। रोचाय ( स० ली० ) पणदप, विट लवण और संघर रोगातुर ( स० वि०) रोगस घबराया हुआ, ध्याधिमे | ल्यण । (वद्यानि.) पीडित। रोचक्न् ि (स० त्रि०) १ घुघायुक् जिससे भूख लगी हो । रोगाधी (स० पु०) रोगस्य अघीश । रानयत्मरोग। | २च्छाशील इच्छा करनेवाला। रोगात ( स० वि०) रोगस दु खो। रोचन (स० पु० ) रोचयनीति रोचि न धादित्वात् ज्यु । रोगासन (सं० पु०) श्यर। १ कुटपालमलि काला समर। २ काम्पिल, मोला। रोगाहय (म० पु.) कुष्ठीयध, कुर। ३ ज्येत लिन सफेद सहिंजन। ४ पलाएडु प्याज! रोगिणी ( स० वि० बी० ) रागिन देग्यो । ५ मारण्यघ, ममललाम। ६ कक्ष का अहोट देरा। रोगित (स० वि०) १ पीडित, रोगयुक्त । (पु०) २ कुत्तेका ८ दाडिम, अनार। रोगोंके अधिष्ठाता पर प्रकार पागलपन। देवता । (हरिः १६६७५) १० विष्णुफ औरससे दक्षिणा रोगिता (सं० पु० ) रोगिणा शोनाशकम्तर अशोक के पुनर्मिस (मरा। ये स्वायम्भुर मग्य तर एक पृक्षा देवता है। (भागयत ११३७) ११ म्यारोधिधमयरतरवं रोगिन (२०नि०) रोगोऽस्यास्तीगि रोग पनि । रोगयुक्त, इद्र। ( भाग० ८।९।२०) १२ भारतपर्वके मतगत पर tol 3