पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/२३०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मानाद्वीप-लातामसाद २३५ मिट्टी मिलती है। कुदालसें यह बालू उठा कर फेक्नेमे नारियल के छिलकेका दाम घटता यढता नहीं है। अइन्रेज घद गरदा जलस भर जाता है। इसी प्रकार फूप, तडाग कर्मचारी चायर और नगद रुपये दे कर उसका मूल्य और पुरिणी आदि काट कर नल निकलने पर नारि चुका देते हैं । अलराजाके अधिरत भूभागमें यसका छिलका भिगोया जाता है। उमका टोय उल्टा है। यहाफे देशो सरदार लोग ___यहा बहुतायतसे रियलका पेह होता है। यहा हिरका मूल्य ले कर राजाके साथ यहा गोरमाल करते चूहेको छोड दसरा जानवर दिपाइ नहीं पड़ता। यह है। इससे राजाका वड़ा नुस्मान होता है। नारियल, नारियलका जानी दुश्मन है। आ और मउली भी कीडी फ्छुएका वप्पर आदि द्रश्यसे राजाका वाणिज्य पहुत पाई जाती है। चलता है। प्राय दा सो यचं तर यह द्वीपक्ष को ननूर राज्य कनाडा अधीनका द्वाप पर मय मनिप्लेर और पोशासनाधीन रहा । १५५० ६०में कोलत्तिरी-राज प्रमिद्ध मुनसफ द्वारा तथा फोमनर द्वापपुष अमोनो के द्वारा चिरकल्ने यहा सरदारको जागीरस्वरूप दिया। इसके परिचालित होता है । यहाके अधिवासी गान्तिप्रिय है । धात दिन बाद मालद्वापके सुलतानसे मिनिमोई चादारिताद होने पर गायक प्रधान द्वारा उसका निबटेरा दोप ले लिया गया। १७०६ १०में उत्तर द्वीपके अधिरा लेते हैं। वासियोंने वागी हो पर राजाश अधीनता यधन तोड ___ जनस ख्या १० हजारसे ऊपर है जिनमेंसे अधिकाश महिसुर राजको घश्यता स्वाकार पर लो। १७६६ 10 में | मुसलमान है। उपकुठवासी मापिल्लामओ की तरह ये पनाहा विभाग इष्ट इण्डिया कम्पनाके हाथ आया। भा पहले हिन्दू थे। उनमे एक ऐमो किंवद तो है, कि समासे यह द्वाप कोननूरक वाबजादीको रौटाया नही उनके पूर्वपुष्पगण धार्मिक प्रधान राना चरमान पेरुपल गया सिर्फ उनके राजस्वस ५५० रुपये अगरेजसजने | की खोज में मलयालस मकाकी ओर पहे थे। रास्ते में घटा दिया। उस समय यह द्वाश्म लादो सिमागमे । इस द्वीपसे टकरा कर नहाज टूट गया और वे लोग यहां हो गई है। उतरनमें वाध्य हुए । यहाके वाशिदे पहले विदथे इममें १८५५५ ले पर १८६०१० तर दक्षिण द्वपक्ष सहदीं। सम्मरत तीन सौ या पहले ये इस्लाम खजाना बाकी पर ज्ञानके कारण उसे घसूल घमम दीक्षित हुए थे । उनको कन्याए हा पितृमम्पत्तिकी कसक लिये म्पीसी नियुक्त हुए । तदनन्तर १८७७१०में अधिकारिणो होती हैं। पुरुषाण वाणिज्यके लिपे यो पुना रानस्य अदा नहीं होने पर उक्त विभाग मलगारके राजम्मको खोजमें मनपार उपकूल आते हैं। लडके राजस्व संग्राहक (Collector of Malaijar ) के मधीन मा पिताके साथ हो लेते हैं। इस कारण द्वीपममूहमें सौपा गया था। इसमे रिमाया नासुराहो गइ । मग त्रियो को दी सप्या अधिक देखी जाती है। ज-सरकार हर दिमागम तथा पोग्ननूरफे मी राजा स्त्रियों निभय हरे नगरमें घूमती फिरती है।नीका अपने मधित विभाग उत्पन नारियलकामा सेनेय सिया घे सब काम करती हैं। ये घूघट नहीं क्साइसे पार करते हैं। ये दोनों ही प्रजामोस निर्दिष्ट देती। यहाफ अधिवासी मलयालम भाषा बोलते मूल्य दे पर जिला सराद करते और उपकूलके थाजारों लेशि भरवो भर लिखने पढते हैं। मिनिकोई में अचे मूल्य पर येव मारते हैं। मूलधन भगया द्वीपका मापा मार द्वीप और मलयालम मिश्रित है। जो बचत होती है यह दोनो मापसमें दाट लेत है। लाक्षाप्रमाद (म. पु०) राक्षाया। प्रसादो पस्मात् । पति मला राजा सुद जताका शासन करते है, उमषे रिपे कालोध्र पटाना ध। रहे परेश ससारको धार्षिक दश हजार रपया पेशगो लाक्षाप्रमादन (स० पु.) रक्षा प्रसादयतीति प्र सद दना परता। | पिच ल्यु । रक्तमान, लाल लोध। पर्याप-प्रमुग गहरेराम शामित माहाक अधीन द्वाफमागर्म | पट्टिा, पेरी। (भाषा)