पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/२९९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


महायोरा-महावत २६७ महायोरा ( स० स्रो०) महावीर-टाए । क्षीरक कोली। ; महाचेदि (स. स्त्री०) श्रेष्ठ वेदो, पीठरूप उयस्थान । महावीा (स.पु०) महद विश्वसृष्टये विपुलं वीय. 'महावेध (स.पु.) योगप्रक्रिया अनुसार हस्तपादादि- मस्य । १ ब्रह्मा । महवीर्य तपोवलमस्य । २ का सस्थानभेद । , बुद्धदेव। ३ वाराही कंद । ४ वितथके एक पुत्रका महावेल ( स० वि०) १ महातरङ्ग वा स्रोतयुक। २ नाम । ५विराजपुत्र । ६ वौद्ध भिक्षु भेद । ७ नोंके । विस्तृत तीरयुक्त। एक मईतका नाम । ८ तामस रोच्य मन्वन्तरक एक महाव पुल्य ( स० पली० ) अतिशय पिपुलता। , इन्द्रका नाम । ६ वृहद्रथ वा गृहदुकथके एक पुत्रका , महावैर ( स०पली०) चिरशल, धड़ा भारी दुश्मन । नाम । १० भवन्मन्यु-राजपुत्र । ११ एकवीर वृक्ष। महावैराज (सं० स्त्री० ) सामभेद । (त्रि०) १२ अतिशय बलयुक्त, वड़ा भारी वलवान् । महावैश्वदेव (सक्ली०) प्रहभेद । महावीर्या ( स्त्री०) महावीर्य-टाप । १ सूर्यको | महावैश्वानरव्रत ( स० पली. ) सामभेद । . पत्नी संशाका एक नाम । २ वनकार्पासी बनकपास | महावैश्वामित्र (स.पली० ) सामभेद । ३ महाशतावरी । ४ शुक्लदूर्वा, सफेद दूध। । महाचैतम्भ (सं० पली० ) साममेद । महाबुद्ध--नेपालको बुद्धमूत्तिभेद । 'महान्याधि (स.पु. ) महांश्चासौ ध्याधिश्चेति । महा- महावृक्ष ( स० पु०) महान् वृक्षः । १ स्नुहावृक्ष, थूहर। रोग कुष्ठादि। महारोग देखो। २ सेहुण्डवृक्ष, सहुड़का पेड़। ३ करंजवृक्ष। ४ ताल. , महाय्याहति ( स० स्त्रो०) महती चासो व्याहृतिश्चेति । वृक्ष, ताड़का पेड़। ५ महापोलु वृक्ष । ६ वृहद्वृक्षा । प्रणय और स्वाहायुक्त तीन व्याहति। होम करने में घड़ा पेड़। महापाहत होम करना होता है। "ओं भी महायुद्ध ( स० लि. ) अतिशय वृद्ध, बहुत बूढ़ा। महावृन्द ( स० पलो० ) संख्यामेदं । लाख वृन्दका एक स्वाहा, ओ भुवः स्वाहा, मओ स्यः स्वाहा" इन तीन महावृन्द होता है। व्याहतियोको महाश्याति कहते हैं । वैदिक होम ‘महायप ( स ) १ सुरम्य पर्वतके पासका एक तीर्थ ।। करनेमे यह महाव्योहति होम करना ही होगा। '२ जातिभेद। सिर्फ तान्त्रिक होममें महाभ्याति होम नहीं करना 'महायुपा (स स्त्री० ) मुशलीमेद, सिया मुशलो। होता। महायुंहतो ( स० स्त्री० ) महावार्ताको, वन बैंगन। । "ओंकारपूर्विकास्तिता महाव्याहतयोऽव्ययाः। महावेग ( स० पु. ) महान् अमोघो दुारी वा वेगो विपदा चैव गावित्री विशेयो ब्रह्मणो मुखम् ॥" 'यस्य। १ शिव, महादेव । २ अतिशय जब, बड़ा येग । (मनु २०७१) गरुड़। ४'मर्करविशेष, बन्दर। । त्रि) ५ अति महाव्युत्पत्ति (सं० स्त्रो०) भोट माषामें रचा गया एक शय घेगयुक्त, प्रवल फेंगशाली। । संस्कृत-अभिधान ! ' "विकर्षन्तो महावेगी गर्जमानी परस्परम् । | महाव्यूह ( सं० पु० ) १ एक प्रकारको समाधि । २ ३य. ‘पश्य त्वं युधि विक्रान्तावतोच नरराक्षसो ।" पुत्रभेद। (भारत १३१५५१२) महावेगलब्धस्थान-~-गरुडोके एक राजाका नाम। महामण (सं० लो० ) मह तत् प्रणति । दुष्टयण। यह रोग महापातक है। इसके होनेसे प्राय- महावेगवती (स. स्त्रो०) महावेग अस्त्यर्थे मतुम् मस्य प, स्त्रियां डोप। १ अति विशिष्टा, जिसमें खूब धेग श्चित्त करना उचित है । दुष्टत्रण देखो। हो । २ घृक्षविशेष। महाप्रत (सलो०) महन्च तत् पतति । द्वादश. महायेगा (सं० स्त्री०) स्कन्दको अनुचरी एक मातृका- पार्षिक प्रत, वह व्रत जो बारह वर्षों तक चलता रहे। , का नाम। } २ आश्विनको दुर्गा पूजा। . . .