पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/६०१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मासुरी-माहानद ५२६ रिम्यो उण पा ४।१।११२) मसुरफर्ण के गोत्रमें उत्पन्न , चकोतरा नीबू । ५ आँगनमें ऊंचा ग्युला हुआ चयूतरा | जिस पर लोग चांदनी में येउने हैं। मासुरी (सं० स्त्री० ) मसुर मण डो। १ श्मश्रु, मूछ । माइन (सं० पु० ) घालण। दादी । २मातृमगिनी, मांको यहिन, मौसी। भाहनीय (सं० वि०) पूजनीय, श्रेष्ठ । "पितृपया पितुर्भग्नी मातृभग्नी च मामुरी॥' माहर ( हिं० पु.) १ इन्द्रायन, इनाम। (पि०) २ माहिर (अक्षयवर्तपु० १।१०।१४५) देखो। . ३ सुश्रुतके अनुसार चीर फाडके एक शत्र माली (हिं० पु.) १ यह पुरुष जो अन्तःपुरमें आना या औजारका नाम। जाता हो, महली, योजा। २ सेयक, दास। मासोपवास (सं० पु.) एक मास तक अनशन-व्रता मादार ( फा० पु० ) १ महीनेका येनन। (वि०)२ चार प्रति मास, महीने महीने। हर महीनेका, मासिक। मासोपवासिनी ( स० स्त्री०) एक महीने तक उपचास माघारी (फा० वि०) हर महीनेका, मासिक। फरनेवाली स्त्री । अनेक समय व्यङ्गसे असचरित्रा माहा (सं० सी० ) गामी, गाय । कामुकोफे प्रति इस शब्दका प्रयोग किया जाता है। माहाकुल (सं० त्रि०) महाकुलस्यपत्यमिति (महायुला- मास्टर ( म०पु०) १ स्वामी, मालिक। २ शिक्षक, गुरु, ५ खगा। पा४।१।१५) इति शम्। महाकुलोद्भय, उस्ताद । ३ किसी विषयमें परम प्रवीण। ४ यालको जिसका उच्च कुलमै जन्म हुया दो। के लिये व्यवहत शब्द। मदाफुलोन (सं०सि०) महाकुलस्यापत्यमिति महाकुल मास्टरी ( स्त्री) मास्टरका काम, पढानेका काम, म्। (पा ४११६१४१) महापुलोद्भव, महाकुलीन । • अध्यापको। २ मास्टरका भाव । मादायमस्य (सं० पु० ) महावमस-प्पम् । गहाचमसके मारम (सं० मध्य०) मा च हाच तयोः समाहार: पारण,। गोत्रम उत्पन्न पुरप । निषेध, मत। पर्याय-मा, मलं। माहाचित्ति (सं० त्रि०) महाचित्त-( मुतलमादिभ्य र पा । मास्य (सं० लि. ) मास भूतः मास-ययोऽये (मासाद्वयसि ४२१८0 ) इति इम्। पर खत्री । पा १ ) इति यत् । महीने भरफा, जो माहाजनिक (सं• सि० ) महाजनाय हित' महाजम ठरू । महाजनोंमें भलाई करनेवाला। एक महीनेका हो। माह ( स० पु.) माप, उड़द । माहागनीन (सं० वि०) महाजने साधु महाजन ( पतिजना- दिभ्यः सम् । पा VIEE) इति पम्। महाजनी में माह ( फा० पु०) मास, महीनो। साधु माहरूस्थलक (सं०नि०) १माहकाधलीवासी, मादक

माहात्मिक (स' लि०) महात्म-सम्बन्धीय; सर्वाधिपत्य.

स्थली में रहनेवाला । २ माकस्थलीमें उत्पन। ३ लक्षण, राजासन, यह स्थान जिस पर राजा या राजकम- मारकस्थली सम्भधीय, माहकस्थलोका ! चारी यैठ कर प्रसा-पालन करता है। मादकस्यली (सं० सी०) एक प्राचीन जनपदका नाम । "रामी माहात्मिफे स्थाने सधः शौर्य विधीयते। माहमि (सं० पु०) १ महकका गोलापत्य । २एक पूमानों परिरमामानशा कारणम् ॥" भाचार्गका नाम (मनु. ५॥१४) माहन (सं० लि०) महतका भाव या धर्म, महम, बढ़ाई। माहात्म्य (सी . ) महात्मनी भायः इति महात्मनः माहताय (फा० पु.) १ चन्द्रमा। २ मातारी देखो। यमागदारमता, माहारमाफा भाव या फिया, मदिमा, मादतायी (फा० सी०) १ महतायी देतो। २ एक बड़ाई। २मान, भादर । प्रकारका कपड़ा जिस पर सूर्य, चन्द्राविको सुनहरी या माहानद ( म० लि०) महानद ( वरमादितम् । पा रुपहली आरसिया पनी रहती है। ३ तरयन । IER) इति मम्। महानसम्बन्धीप, उससे उत्पन्न । Vol. Pl, 133