पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/६८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
६२
ऐवरहार्ट विलियम
 


गये। मई १९३२ में आपको, राष्ट्रपति डूमर्ग की हत्या के बाद, फ्रान्स का

Antarrashtriya Gyankosh.pdf


राष्ट्रपति चुना गया। ५ अप्रैल १९३६ को वह फ्रांस के राष्ट्रपति पुनः ७ वर्ष के लिए चुने गये। १९३८ में राष्ट्रपति ऐलवर्ट लेब्रन ने ब्रिटेन के राजा-रानी को पेरिस में दावत दी और अप्रैल १९३९ में सरकारी तौर पर लन्दन गये और ब्रिटिश सम्राट् के मेहमान हुए। लेब्रन अपने राष्ट्रपति-पद के कार्यकाल मे फ्रान्स के विधान के अनुकूल ही व्यवहार करने को वाधित थे, किन्तु निजी तौर पर वह सदैव अपने जनतावादी विचारो की दुहाई देते रहे।


ऐवरहार्ट विलियम--इनका जन्म ३० दिसम्बर १८७८ को ओटेरियो में हुआ। पहले यह एक स्कूल में अध्यापक थे। बाद में इन्होंने ऐल्वर्टा प्रान्त में सामाजिक साख सघ (Social Credit League) नामक एक व्यापारिक-सस्था की स्थापना की। इसकी नियमावली में यह वचन दिया गया कि ऐल्बर्टा प्रान्त के प्रत्येक नियमित नागरिक को प्रतिमास पच्चीस डालर का मुनाफा बॉटा जायगा, और इस संघ के ज़रिये विलियम ने चुनाव लड़ा। जनता को अपनी ओर आकर्षित

Antarrashtriya Gyankosh.pdf


करने का यह अच्छा खासा प्रलोभन था। इस अवसर का पूरा लाभ उठाया गया। नतीजा यह हुआ कि ६३ में से ६० स्थान इनके दल को मिले। चौदह साल से ऐल्बर्टा में सयुक्त-कृषक दल की सरकार कायम थी। उसे उखाड़ फेंका गया और ऐवरहार्ट विलियम ऐल्बर्टा (कनाडा) के राजनीतिक अग्रणी और वहॉ की सरकार के प्रधान मत्री बन बैठे।