प्रियप्रवास

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
प्रियप्रवास  (1914) 
द्वारा अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध'

[  ]



प्रियप्रवास
(खड़ी बोली का अपूर्व महाकाव्य)
लेखक
साहित्यवाचस्पति, साहित्यरत्न, कविसम्राट
पण्डित अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध
प्रकाशक
हिन्दी साहित्य-कुटीर
बनारस

_____

[  ]

प्रकाशक—

हिन्दी-साहित्य-कुटीर

बनारस




मूल्य २।।।)




मुद्रक—

भीनाथदास अग्रवाल,

टाइम टेबुल प्रेस,

बनारम । ५२६ग-१३

[  ]
प्रियप्रवास.djvu

ग्रन्थकार---

साहित्यवाचस्पति, साहित्यरत्न, कविसम्राट

पं. अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध'

[  ]

विचार-सूत्र

सहृदय वाचकवृन्द।

मै बहुत दिनो से हिन्दी भाषा में एक काव्य-ग्रन्थ लिखने के लिये लालायित था। आप कहेंगे कि जिस भाषा में ‘रामचरितमानस', 'सूरसागर', 'रामचन्द्रिका', 'पृथ्वीराज रासो', 'पद्मावत' इत्यादि जैसे बड़े अनूठे काव्य प्रस्तुत है, उसमे तुम्हारे जैसे अल्पज्ञ का काव्य लिखने के लिये समुत्सुक होना बातुलता नही तो क्या है? यह सत्य है, किन्तु मातृभाषा की सेवा करने का अधिकार सभी को तो है, बने या न बने, सेवा प्रणाली सुखद और हृदय-ग्राहिणी हो या न हो, परन्तु एक लालायित-चित्त अपनी प्रबल लालसा को पूरी किये बिना कैसे रहे? जिसके कान्त-पादांबुजो की निखिल-शास्त्रपारंगत पूज्यपाद महात्मा तुलसीदास, कवि-शिरोरत्न महात्मा सूरदास, जैसे महाजनो ने परम सुगंधित अथच उत्फुल्ल पाटल प्रसून अर्पण कर अचना की है—कविकुल-मण्डली-मण्डन केशव, देव, बिहारी, पद्माकर इत्यादि सहृदयो ने अपनी विकच-मल्लिका चढ़ा कर भक्ति-गद्गद-चित्त से आराधना की है—क्या उसकी मैं एक नितान्त साधारण पुष्प द्वारा पूजा नहीं कर सकता? यदि ‘स्वान्त खाय' मै ऐसा कर सकता हूँ तो अपनी टूटी-फूटी भाषा मे एक हिन्दी-काव्य ग्रन्थ भी लिख सकता हूँ, निदान इसी विचार के वशीभूत हो कर मैने 'प्रियप्रवास' नामक इस काव्य की रचना की है।

PD-icon.svg यह कार्य भारत में सार्वजनिक डोमेन है क्योंकि यह भारत में निर्मित हुआ है और इसकी कॉपीराइट की अवधि समाप्त हो चुकी है। भारत के कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के अनुसार लेखक की मृत्यु के पश्चात् के वर्ष (अर्थात् वर्ष 2021 के अनुसार, 1 जनवरी 1961 से पूर्व के) से गणना करके साठ वर्ष पूर्ण होने पर सभी दस्तावेज सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आ जाते हैं।

यह कार्य संयुक्त राज्य अमेरिका में भी सार्वजनिक डोमेन में है क्योंकि यह भारत में 1996 में सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आया था और संयुक्त राज्य अमेरिका में इसका कोई कॉपीराइट पंजीकरण नहीं है (यह भारत के वर्ष 1928 में बर्न समझौते में शामिल होने और 17 यूएससी 104ए की महत्त्वपूर्ण तिथि जनवरी 1, 1996 का संयुक्त प्रभाव है।

Flag of India.svg