Locked

आदर्श हिंदू २

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
आदर्श हिंदू दूसरा भाग
द्वारा मेहता लज्जाराम शर्मा
[  ]
[[चित्र:|411px|page=1]]
[  ]


मनोरंजन पुस्तकमाला-५



संपादक

श्यामसुंदरदास, बी० ए०


[[चित्र:|411px|page=2]]


काशी नागरी-प्रचारिणी सभा की ओर से



प्रकाशक

इंडियन प्रेस, लिमिटेड, प्रयाग

[  ]

Published by

K. Mittra

at The Indian Press, Ltd.,

Allahabad.






Printed by

A.Bose,

at The Indian Press,Ltd.,

Benares-Branch.

[  ]
आदर्श हिंदू

दूसरा भाग



लेखक

मेहता लज्जाराम शर्म्मा





इंडियन प्रेस, लिमिटेड, प्रयाग


मूल्य ११)
१९२८
[  ]
सूची
विषय
पृष्ठ
 


(१) चौबीसवाँ प्रकारण--प्रयाग के भिखारी..१--१२
(२) पचीसवाँ प्रकरण--मांस लक्षण ... १३--२१
(३) छब्बीसवाँ प्रकरण--पौराणिक प्रयाग ... २१--३३
(४) सत्ताईसवाँ प्रकरण--सतयुग का रामा ... ३४--४२
(५) अट्ठाईसवाँ प्राकरण--कांतानाथ के घरेलू धंधे ४३--५१
(६) उंतीसवाँ प्रकरण--घर की फूट ... ५२--६०
(७)तीसवाँ प्रकरण...हिंदी और बलिदान...६१--६९
(८)एकतीसवाँ प्रकरण--काशी की छटा...७०--८१
(९) बत्तीसवाँ प्रकरण--देवदर्शन का आनंद ८२--९२
(१०)तेंतीसवाँ प्रकरण--भक्ति रस की अमृतवृष्टि ९३--१०४
(११)चौतींसवाँ प्रकरण--प्रियंवदा को पकड़
ले गए ... ... १०५--११५
(१२)पैंतीसवाँ प्रकरण--प्रियंवदा का नसीरन...११६--१२१
(१३)छत्तीसवाँ प्रकरण--प्रियंवदा का सतीत्व...१२२--१३०
(१४) सैंतीसवाँ प्रकरण--घुरहू का प्रपंच ...१३१--१४१
(१५) अड़तीसवाँ प्रकरण--भक्ति की प्रतिमूर्ति १४२--१५२
(१६) उंतालीसवाँ प्रकरण--काशी की भलाई

और बुराई ... ...१५३--१६१
[  ]
विषय
पृष्ठ
 


(१७)चालीसवाँ प्रकरण--महात्माओं के दर्शन १६२-१७२
(१८)एकतालीसवाँ प्रकरण--व्यापार पर प्रकाश १७३--१८१
(१९)बयालीसवाँ प्रकरण--चरित्र की दरिद्रता १८२--१९१
(२०)तेंतालीसवाँ प्रकरण--गया-श्राद्ध में
चमत्कार ... ...१९२--२०३
(२१)चौवालीसवाँ प्रकरणा -- श्राद्ध पर शास्त्रार्थ २०४--२१७
(२२)पैंतालीसावाँ प्रकरण-मातृस्नेह की महिमा २१८--२२६
(२३)छियालीसवाँ प्रकरण--कर्म-फल का खाता २२७-२३८


PD-icon.svg यह कार्य भारत में सार्वजनिक डोमेन है क्योंकि यह भारत में निर्मित हुआ है और इसकी कॉपीराइट की अवधि समाप्त हो चुकी है। भारत के कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के अनुसार लेखक की मृत्यु के पश्चात् के वर्ष (अर्थात् वर्ष 2022 के अनुसार, 1 जनवरी 1962 से पूर्व के) से गणना करके साठ वर्ष पूर्ण होने पर सभी दस्तावेज सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आ जाते हैं।

यह कार्य संयुक्त राज्य अमेरिका में भी सार्वजनिक डोमेन में है क्योंकि यह भारत में 1996 में सार्वजनिक प्रभावक्षेत्र में आया था और संयुक्त राज्य अमेरिका में इसका कोई कॉपीराइट पंजीकरण नहीं है (यह भारत के वर्ष 1928 में बर्न समझौते में शामिल होने और 17 यूएससी 104ए की महत्त्वपूर्ण तिथि जनवरी 1, 1996 का संयुक्त प्रभाव है।

Flag of India.svg