पृष्ठ:अद्भुत आलाप.djvu/७३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
७५
एक ही शरीर में अनेक आत्माएँ

पुराने हाना

अब प्रश्न यह है कि पहले हाना कहाँ गए? क्या दूसरे हाना कोई नए पुरुष थे, जो पहले हाना के शरीर में रहने आए थे। उन दोनो में सिर्फ़ इतना ही संबंध था, जितना शरीर खाली घर में टिकनेवाले बेगाने आदमी और घर के मालिक में होता है। एक तमाशा देखिए। पुराना हाना सपना देखने लगा, और जब उसने अपने सपने सुनाए, तब उसके पिता ने देखा कि वे सपने उसकी युवावस्था में देखी गई चीज़ों के संबंध में थे। उसने सपने में देखे हुए स्थानों के नाम बतलाए, पर यह बात वह न जान सका कि वे स्थान उसने पहले भी कभी देखे थे या नहीं। इस प्रकार अनेक पुराने स्वाप्निक संकेत पाने पर पहले हाना के पाने के लिये यत्न प्रारंभ किए गए। पहला हाना यहूदी भाषा जानना था; पर दूसरा नहीं जानता था--यहूदी भाषा में एक पद्य का पूर्वार्ध उसे सुनाया गया। इस पर वह एकाएक बोल उठा-'हाँ, मुझे यह स्मरण है।' फिर वह आद्योपांत पूरा पद्य सुना गया। पर तुरंत ही सब पद्य वह फिर भूल गया। लोगों ने पूछा कि तुम्हें क्या मालूम पड़ा। उसने कहा, मैं बहुत डर गया था। ऐसा बोध होता था कि कोई दूसरा उसके ऊपर अधिकार जमा रहा है। उसने कहा, मैं नहीं जानता--मैं क्या बक गया। कुछ समझ नहीं सका। कुछ काल के अनंतर एक पद्द जिसे वह पहले अक्सर गाया करता था, पढ़ा गया। इस पर उसने दो नाम लिए। पर वे किसके नाम हैं, यह बात