पृष्ठ:आलम-केलि.djvu/१३०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


११३ - Ne.. ..

रामलीला

थोरन बिछोह पार छोरिछारि डारी, ही सु,

झारो नहीं जाटनु अजहुँ. तक, तैसी, है।

' 'पालमपरीक, घर पैठे नहीं तच. ही ते .

  • चंठे-यन तन: तपसी की...गति.. तैसी है।

पोरे पोरे पात खात पात ही से पोरे भये, पीर रघुयोर जू"तिहारी कछु ऐसी है। राज कैसो राज और स्वारथ को ग्राजु लगि, , __ भरथ न देखी सु ;अजोध्या फिरि कैसी है ॥२६॥ दुसह दुसारो सब. नेमनि ते न्यारो जिदि, .. • • • पेम पथ आये, सीस., पग हैदरतु है। राते किये, वाते सुनि ताते सहि जात नहीं, लोह. भरे घाइ- ताते लोहे ,सो लरतु है। • कं जासो.कालचाल झंपै. तेसो फठिन है, ., कपन दियोगी जु., उसाँसनि भातु. है। ऐसो काह. करै तकसीर करवत ,लीयो, . ... . ; जैसो और विरही, सौ यिरह करतु है ॥२६७॥ नैना नीर धोइ :हास्यो -लोह - सब: रोहताते, १, .: रोहा के भूरो या लोहून, लक्ष्तु है। 'श्रालमा न. आवे यात पोरे, मुख-सीरे गात, .." तातो; हियो रातो; करि.. सूलहि सहतु है । .. mamminimirmirmirmir.m - सकतीर-राधी २-करयत लीवो-भारे से सिर कटवाना। .