पृष्ठ:कर्बला.djvu/३४

विकिस्रोत से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
यह पृष्ठ जाँच लिया गया है।
कबला
दूसरा दृश्य
[ रात का समय-मदीने का गवर्नर वलीद अपने
दरबार में बैठा हुआ है।]

वलीद-(स्वगत) मरवान कितना खुदग़रज़ आदमी है । मेरा मातहत होकर भी मुझ पर रोब जमाना चाहता है। उसकी मरज़ी पर चलता, तो आज सारा मदीना मेरा दुश्मन होता। उसने रसूल के खानदान से हमेशा दुश्मनी की है।

[कासिद का प्रवेश]

क़ासिद-या अमीर, यह खलीफ़ा यज़ीद का खत है।

वलीद-(घबराकर) ख़लीफ़ा यज़ीद ! अमीर मुआविया को क्या । हुआ?

क़ासिद-आपको पूरी कैफियत इस खत से मालूम होगी।

[खत वलीद के हाथ में देता है।]

वलीद-(खत पढ़कर) अमीर मुबाबिया की रूह को खुदा जन्नत में दाखिल करे । मगर समझ में नहीं आता कि यजीद क्योंकर खलीफा हुए। कौम के नेताओं की कोई मजलिस नहीं हुई, और किसी ने उनके हाथ पर बैयत नहीं ली । मदीने भर में यह खबर फैलेगी, तो ग़ज़ब हो जायगा । हुसैन यज़ीद को कभी न खलीफ़ा मानेंगे।

क़ासिद-(दूसरा खत देकर) हुजूर, इसे भी देख लें।

[वलीद ख़त लेकर पढ़ता है ]

"वलीद, हाकिम मदीना को ताकीद की जाती है कि इस खत को देखते ही हुसैन से मेरे नाम पर बैयत लें । अगर हुसैन बैयत न लें, तो उन्हें क़त्ल कर दें, और उनका सिर मेरे पास भेज दें।"

'[वलीद सदं साँस लेकर फर्श पर लेट जाता है ।]

क़ासिद-मुझे क्या हुक्म होता है ?

वलीद-तुम जाकर बाहर ठहरो । (दिल में) खुदा वह दिन न लाये कि मुझे रसूल के नवासे के साथ यह घृणित व्यवहार करना पड़े। वलीद