पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/१५९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


उदाहरण सवैया नेकहू काहू नवाई न वानी, नवाये बिनाही सुवक्र भई है। लोचनश्री विमुकाये बिना, विमुकीसी बिना रॅगरागमई है। केशव कौनकी दीनी कहो यह, चद्रमुखी गति मद लई है। छोली न, होहि गई कटि छीन सुयौवन की यह युक्ति नईहै ॥१४॥ उसको वारणी को किसी ने नवाया (सुकाया) नहीं है, बिना झुकाये ही यह टेढी हो गई है। इसी तरह ऑखो की शोभा भी बिना चचल किए हो चचल हो रही है और बिना रंग के ही रजिन सी प्रतीत हो रही है। 'केशवदास' कहते है कि बतलाओ, इस चन्द्रमुखी ने किसकी दी हुई मदचाल प्राप्त की है ? अर्थात् इसकी यह धीमी चाल किसकी दी हुई है ? बिना छोले ही इसकी कमर क्षीण हो चली है। यौवन ( युवावस्था ) की यह युक्ति अद्भुत है। ३-हेतु हेतु होत है भांति द्वै, वरणत सब कविराव । 'केशवदास' प्रकाश करि, वरणि सुभाव अभाव ॥१५॥ 'केशवदास' कहते है कि सभी कविराज हेतु' को दो तरह का बतलाते हैं। एक 'अभाव' और दूसरा सभाव । उदाहरण-१ सभाव केशव चंदनवृंद घने, अरविदन के मकरंद शरीरो। मालती, बेलि, गुलाब सुकेतकी केतिक चपक को बन पीरो॥ रंभनि के परिरभन संभ्रम, गर्व घनो घनसार को सीरो। शीतल मन्द सुगन्ध समीर हरयो इनसो मिली धीरज धीरो ॥१॥ केशवदास' कहते है कि चदन से सुगन्धित होकर कमलो का मकरद अपने शरीर मे लेकर, मालती, बेला, गुलाब, केतकी तथा चपक के पीले बन से लदने के कारण मन्द होकर और दौड-दौडकर केलो से