पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/१८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
( ८ )

रायप्रवीण प्रवीण अति, नवरगराइ मुवेश । अति विचित्र नैना निपुण, लोचन नलिन सुतेश ।।४।। सोहत सागर राय की, तानतरग तरग। रगराइ रॅगवलित गति, रंगमूरति अग अग ॥४४|| तन्त्री, तुम्बुर, सारिका, शुद्धि सुरिन सों लीन । देवसभा सी देखिये, रायप्रवीण प्रवीन ।।४।। सत्या, रायप्रवीणयुत, सुरतरु, सुरतरु गेह । इन्द्रजीत तासो बध्यो, केशवदास सनेह ॥४६|| सुरी, आसुरी, किन्नरी, नरी राहति सिरु नाइ । नवरस नवधाभक्ति स्यो, शोभित नवरंग राइ ॥४७॥ हाव-भाव संभावना, दोला सम सुखदाय । ङ्केपियमान देति लाथ गति, सपारस नवरंगा राय |Bull भैरवयुत गौरी सँयुत, सुतरगिनी लेखि । चन्द्रकला सी सोहिये, नैनविचित्रा देखि ॥४॥ नैन बैन रति सैन सम, नैनविचित्रा नाम । जयन शील पति मैन मन, सदा करति विश्राम ॥५०॥ नागरि सारि राग की, सागर तानतरंग । पनि पूरणशशि दरसि दिन, बाढ़ति तान तरग ॥५१॥ तानति तानतरग की, तन मन वेधति प्राण । कलाकुसुमशर शरन की, अति अयानि तनत्राण ॥५२॥ रंगराय की आंगुरी, सकल गुणनि की मूरि। लागत मूढ मृदग मुख, शब्द रहत भर पूरि ।।५।। रगरायकर मुरजमुख, रंगमूति पद चारु। मानो पढ़यो है साथ ही, सब संगीत विचारु ॥५४॥ अंग जिते संगीत के, गावत गुणी अनंत । रॅगमूरति अंग अंग प्रति, राजन मूरतिवंत ॥५॥