पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/२५१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


( २३४ ) उदाहरण कवित्त शीतलहू हीतल तुम्हारे न बसति वह, तुम न तजत तिल ताको उर ताप गेहु । आपनो ज्यौ हीरा सो पराये हाथ ब्रजनाथ, दैके तो अकाथ साथ मैन ऐसो मन लेहु । एते पर 'केशोदास' तुम्हे परवाह नाहि, वाहै जक लागी भागी भूख सुख भूल्यो गेहु । माड़ो मुख छांडो छिन छल न छवीले लाल, ऐसी तो गॅवारिन सों तुम्ही निबाहौ नेहु ॥२३॥ ( कोई दूती श्रीकृष्ण से आकर कहती है कि ) वह तो तुम्हारे शीतल हृदय में भी नहीं रहती और तुम उसके तप्त हृदय-निवास को एक घडी भर को नहीं छोडते अर्थात् तुम्हारे हृदय मे उसके प्रति प्रेम की गर्मी नहीं है और तुम उसके विरह से जलते हुए हृदय मे सदा रहते हो । हे ब्रजनाथ । तुम अपना होरा सा मन पराये हाथ मे देकर उसका मोम जैसा मन ब्यर्थ हो लेते हो अर्थात् तुम हीरा के समान कठोर मन रखते हो और वह मोम जैसा कोमल मन रखती है। केशवदास ( दूती की ओर से ) कहते हैं कि इतने पर भी तुम्हे अपने हीरा जैसे मन की परवाह नहीं है और उसे अपने मोम जैसे मन की ऐसी धुन लग गई है कि तुम्हारे पास उसके मन के आ जाने से उसकी भूख भाग गई है, घर और सुख भी भूल गया है। वह मुख से तो प्रशसा करती है, पर क्षण भर के लिए भी छल नहीं छोडती । हे छवीले लाल | ऐसी गॅवारिन से तुम्ही प्रेम निबाहते हो । दूसरा अर्थ यह भी निकल सकता है कि वह तो ऐसी गॅवारिन नहीं