पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/३०१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


( २८३ ) 'केशवदास' कहते है कि उपमान और उपमेय मे अभेद वर्णन किया जाय, वहाँ उसे 'परस्परोपमा' कहते है । उदाहरण कवित्त बारे न बड़े न वृद्ध, नाहिनै गृहस्थ सिद्ध, ___बावरे न बुद्धिवंत, नारी और नर से। अंगी न अनगी तन, ऊजरे न मैले मन, स्यार ऊ न शूरे रन, थावर न चर से । दूबरे न मोटे, राजा रक ऊ न कहे जायें, मर न अमर अरु आपने न पर से। वेद हू न कछु भेद पावत है 'केशवदास' हरि जू से हेरे हर, हरि हरे हर से ॥४६।। न तो वे बारे ( छोटे ) से है, न बडे से, न वृद्ध से, न गृहस्थ से, न सिद्ध से, न पागल से, न बुद्धिमान से, न नारी से और नर से है। न वे शरीरधारी से है, न अग रहित से है, न उजले से है, न मेले से है, न कायर मन जैसे है, न युद्ध वीर से है, न स्थावर से हैं और न जगम से है । न दुबले से है, न मोटे जैसे है, न राजा से और न रक से भी कहे जा सकते है, न मरणशील से है न अमर से हैं। न अपने से हैं और न पराये जैसे है। 'केशवदास' कहते है, कि जिनका भेद वेद तक नहीं पाते, वे हरि ( श्री विष्णु जी श्री शङ्कर जी के समान देखे और श्री शङ्कर जी को विष्णु के समान पाया । इक्कीस भेदो का वर्णन करने के बाद श्री केशवदास ने उपमा का एक भेद सकीर्णोपमा भी लिखा है ।