पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/३१५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


( २९७ )

'केशवदास' कहते है कि जो 'दूषण-दूषण' अर्थात् दूषण राक्षस के वैरी श्रीरामचन्द्र जी के यशरूपी भूषणो (शख, चक्रादिको को) अपने अगो पर धारण करके सुशोभित होता है, जो ज्ञान से भरी हुई भावनाओ के द्वारा ईश्वर को संसार व्यापी देखती है। जो परमानद (श्री भगवान्) की परमा (शोभा) पर मुग्ध है अर्थात् उनमे लीन है, उसके लिए आनन्द की परमा (अधिकता) क्या है। अर्थात् वह आनन्द को कुछ नहीं समझता। उसकी मति मे (उसके विचार में) वेश्याए तुरसी (खट्टी या बुरी) है, उसकी बुद्धि अवदातरसी (शात रस मे सनी हुई) रहती है तथा वह तुरसी पति (तुलसीपति) श्री विष्णु पर मोहित होती है।

दोहा


इहिविधि औरहु जानिये, दुखकर यमक अनेक।
बरणत चित्रकवित्त अब, सुनियो सहित विवेक॥३५॥

इसी तरह और बहुत से दुखकर यमक हो सकते हैं। अब मैं चित्र अलकार के कवित्तो (छन्दो, रचनाओं) मे वर्णन करता हूँ। जो विवेक वान हैं, वे सुनें।

ये नीचे लिखे छन्द प्रक्षिप्त से ज्ञात होते है, क्योकि यमकालकार से इनका कोई सम्बन्ध नहीं है।

१-अनुप्रास
छन्द


जो तू सखि न कहै कछु चालहि, तौही कहूँ इकबात रसालहि।
तो कहुँ देहुँ बनी बनमालहि, मोकहँ तू मिलबै नॅदलालहि॥३६॥