पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/३९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


( २७ ) उदाहरण सवैया पहिले सुखदै सबही को सखी, हरिही हितकै जुहरी मति मीठी। दूजे लै जोवनमूरि अकूर, गयो अग अग लगाय अँगीठी ॥ अबधौं केहिकारण ऊधव ये, उठिधाये लै केशव झूठी बसीठी। माथुर लोगनिके सँगकी यह बैठक तोहि अजौ न उबीठी ॥३॥ हे सखी। पहले तो हरि ( श्री कृष्ण ) ने सबको सुख दिया और प्रेम करके सुबुद्धि हर लो । फिर अक र आकर उन जोवन मूरि ( श्री कृष्ण) को ले गये और इस तरह मानो उन्होने अग अग मे अगोठी लगा दी (जलन उत्पन्न कर दी दुख दे दिया)। 'केशवदास' ( सवो को ओर से) कहते हैं कि अब यह पत्र झा सदेश लेकर क्यो आये हैं ? मथुरा के लोगो के साथ का उठना-बैठना तुके अब भी अरुचिकर नहीं हुआ? (इस सवैया के पहले चरण मे 'को' को दीर्घ लिखा गया है परन्तु उसका उच्चारण ह्रस्व की तरह होता है । इसी तरह दूसरे चरण में 'जे' और, 'ले' अक्षर ह्रस्व की तरह पढे जाते है । तीसरे चरण ने ये और 'ल' का उच्चारण भी ह्रस्व हो होता है।) संयोगी के आदि युत, कबहुंक बरन बिचारु । केशवदास प्रकासबल, लघुकरि ताहि निहारु ॥३६।। केशवदास जी कहते है कि सयुक्तअक्षर के आदि के अक्षर को भी कभी कभी अपनी बुद्धि के बल से 'लघु' ही समझना चाहिए । अर्थात् कभी-कभी सयुक्ताक्षर के पहले का अक्षर भी लघु माना जा सकता है) उदाहरण दोहा अमल जुन्हाई चन्दमुखि, ठाढ़ी भई अन्हाय । सौतिनिके मुखकमल ज्यो, देखि गये कुम्हिलाय ॥३७॥