पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/६४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है
( ५० )

मारग अगिनि, किसान नर, लोभ, क्षोभ, दुख,द्रोह । विरह, यशोदा, गोपिका कोकिल, महिषी, लोह ॥२४॥ अग्नि का मार्ग, किसान, मनुष्य, लोभ, क्षोभ, दुख, द्रोह, विरह, यशोदा, ग्वालिन, कोयल, भैस और लोहा । कांच, चीक, कच, काम, मल, केकी, काक, कुरूप । कलह छुद्र, छल आदिदै, काले कृष्णस्वरूप ॥२५॥ काच, कील, बाल, मोर, कौआ कुत्सितरूप, कलह, क्षुद्र छल आदि भाव और श्रीकृष्ण का स्वरूप-ये काले रंग के माने जाते है । उदाहरण -(१) कवित्त बैरिन के बहु भांति देखत ही लागि जाति, कालिमा कमलमुख सब जग जानी है। जतन अनेक करि यदपि जनम भरि, धोवत हू न छूटत केशव बखानी है। निज दल जागै जोति, पर दल दूनी होति, अचला चलति यह अकह कहानी है। पूरन प्रताप दीप अंजन की राजै रेख, राजै श्रीरामचन्द्र पानि न कृपानी है ॥२६॥ सारा ससार जानता है कि श्रीरामचन्द्र की तलवार को देखते हो वैरियो के कमल-मुख मे कालिमा लग जाती है । केशव' कहते है कि वह कालिमा जन्म भर यत्ल करने पर भी धोने से नहीं छूटती । उसकी जितनी ज्योति अपने दल मे होती है उससे दूनी शत्रुओ के दल मे होती है। उसके भय से पृथ्वी डगमगा जाती है, उसकी कथा अकथनीय है। श्रीरामचन्द्र के हाथ म जो तलवार सुशोभित हो रही है, वह तलवार नहीं प्रत्युत उनके पूर्ण प्रताप रूपी दीपक के काजल की रेखा है।