पृष्ठ:कवि-प्रिया.djvu/९४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


HERE पृष्ठ २२६, कवित्त जानु, कटि, नाभि कूल, कठ पीठ, भुजमूल, उरज करज रेख, रेखी बहु भाँति है। दलित कपोल, रद ललित, अधर रुचि, रसना-रसित रस, रोस में रिसात है। लेटि लेटि लौटि पौटि, लपटाति बीच बीच, __हा हां, हूँ हूँ, नेति, नेति वाणी होति जाति है। आलिंगन अंग अंग पीड़ियत, पद्मिनी के, सौतिन के अंग अंग पीडनि पिराति है ॥४॥