पृष्ठ:कोड स्वराज.pdf/१७२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।

कोड स्वराज

उनकी प्रजनन क्षमता को भी बढ़ाया। अर्थात् यह पाया गया कि वे मक्खियाँ रेड वाइन और नियंत्रण समूह के मक्खियों की तुलना में बेहतर थी।

टीडीयू बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज़ के सह-अध्यक्ष डॉ. रामास्वामी एक प्रमुख न्यूरोलॉजिस्ट हैं। उन्होंने मुझे एक और अधिक प्रभावशाली प्रयोग के बारे में बताया। चिकित्सा के क्षेत्र में शोध करने की समस्याओं में एक यह है कि तथाकथित असली दुनिया में परिणामों का परीक्षण कैसे किया जाता है। कोई भी व्यक्ति, प्रयोगशाला में चूहों या मक्खियों पर प्रयोग कर सकता है, लेकिन ये मनुष्य से अलग हैं। मनुष्यों पर परीक्षण का सिद्धांत विशेष रूप से मुश्किल होता है क्योंकि इससे कोई भी बड़ा नुकसान हो सकता है। फ़ील्ड टेस्ट के लिये कड़े प्रयोगशाला प्रोटोकॉल होते हैं। यह सभी चिकित्सा अनुसंधानों के लिए एक कठिन समस्या है।

डॉक्टर ने कहा कि वे उन दवाइयों की प्रभावशीलता का परीक्षण करना चाहते थे, जो मलेरिया का इलाज करने में सहायक थीं। हालांकि, ऐसा करने का एकमात्र तरीका लिवर की बायोप्सी लेना था जिसमें दवा का इंजेक्शन दिया गया हो। यह निश्चित तौर पर मलेरिया से ग्रस्त किसी जीवित मानव पर संभव नहीं है।

टीम ने अत्याधुनिक स्टेम सेल तकनीकी का प्रयोग किया। इसमें प्राथमिक तौर पर हाथ की त्वचा की कोशिकाओं को लिया जाता है। स्टेम सेल से मानव शरीर के किसी भी अंग को विकसित किया जा सकता है। अतः, उन्होंने कुछ लिवरों को विकसित किया। उन्होंने इन लिवरों में मलेरिया की सुई लगाई। फिर इनमें से एक लिवर में आयुर्वेदिक दवा डाला। इस तरीके से उन्हें प्राचीन दवा की प्रभावशीलता का पता लगाया।

यह यात्रा दिलचस्प थी। पारंपरिक ज्ञान के बारे मेरे विचार इस से बदल गए थे। दर्शन शंकर ने कहा कि उनके पास एक विस्तृत डेटाबेस है, जिसमें उन्होंने तस्वीरों, टिप्पणियों और अन्य सामग्रियों के साथ पारंपरिक पाठ्यों में उल्लेखित दवाओं को रखा है। मैंने उनसे पूछा कि क्या इस डेटाबेस को ऑनलाइन रखा जा सकता है? उन्होंने कहा कि जैव विविधता अधिनियम इस पर रोक लगाएगी। मैं इसे समझ नहीं पाया और इसके बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहता था।

उस शाम, मैसूर की महारानी, रॉयल महामहिम प्रमोदा देवी वाडियार ने अपने बैंगलुरु पैलेस में बैंगलुरु समाज के कुछ चुनिंदा विख्यात सदस्यों और टीडीयू के डॉक्टरों के लिए एक समारोह का आयोजन किया था। प्रस्तुतियों के बाद, हमने दक्षिण भारतीय भोजन के शानदार खाने का लुफ्त उठाया, जिसमें डोसा और पानी पुरी और तरबूज में परोसी गई तरबूज से बनी कुल्फी और खोखले संतरे में परोसी गई संतरे की कुल्फी शामिल थी। डीनर पर, मैं आयुर्वेदिक ज्ञान के बारे पूछता जा रहा था और जानकारी का प्रसार इन्टरनेट पर करने के लिए जैव विविधता नियम के प्रतिरोध को भी समझने के लिये भी प्रश्न पूछ रहा था।

164