पृष्ठ:ग़बन.pdf/३५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


उसने अपना हाथ छुड़ा लिया और फिर बिछावन लपेटने लगी। रमा खिसियाना-सा होकर एक किनारे खड़ा हो गया । जालपा ने बिस्तरबन्द से बिस्तर को बांधा और फिर अपने सन्दूक को साफ करने लगी; मगर अब उसमें वह पहले-ली तत्परता न थी, बार-बार सन्दूक बन्द करती और खोलती। वर्षा बन्द हो चुकी थी, केवल छत पर हका हुआ पानी टपक रहा था ।

आखिर वह उसी बिस्तर के बण्डल पर बैठ गयी, और बोली-तुमने मुझे कसम क्यों दिलाई ?

रमा के हृदय में आशा की गुदगुदी हुई । बोला इसके सिवा मेरे पास तुम्हें रोकने का और क्या साधन था ?

जालपा-क्या तुम जानते हो कि मैं यहीं घुट-घुटकर मर जाऊँ ?

रमा-तुम ऐसे मनहूस शब्द क्यों मुंह से निकालती हो ? मैं तो चलने को तैयार है, न मानोगी तो पहुँचाना ही पड़ेगा । जाओ मेरा ईश्वर मालिक है; मगर कम से कम बाबूजी और अम्मा से पूछ लो।

बुझती हुई आग में तेल पड़ गया । जालपा तड़पकर बोली-वह मेरे कौन होते हैं जो उनसे पूछूं ?

रमा०-कोई नहीं होते ?

जालपा--कोई नहीं ! अगर कोई होते, तो मुझे यों न छोड़ देते। रुपये रखते हुए कोई अपने प्रियजनों का कष्ट नहीं देख सकता । ये लोग क्या मेरे आँसू न पोंछ सकते थे ? मैं दिन-के-दिन यहाँ पड़ी रहती हैं। कोई झूठे भी पूछता है ? मुहल्ले की स्त्रियाँ मिलने आती है, कैसे मिलूं? यह सूरत अब मुझसे नहीं दिखाई जाती । न कहीं आना, न जाना, न किसी से बात न चीत, ऐसे कोई कै दिन रह सकता है ? मुझे इन लोगों से अब कोई आशा नहीं रही । आखिर दो लड़के और भी तो है, उनके लिए भी कुछ जोड़ेंगे कि तुम्हीं को दे दें।

रमा को बड़ी-बड़ी बातें करने का फिर अवसर मिला। वह खुश था कि इतने दिनों के बाद आज उसे प्रसन्न करने का मौका मिला । बोला- प्रिये, तुम्हारा खयाल बहुत ठीक है । जरूर यही बात है । नहीं तो ढाई तीन हजार उनके लिए क्या बड़ी बात थी ? पचास हजार बैंक में जमा है, दफ्तर तो केवल दिल बहलाने जाते है।

३०
ग़बन